टीयुशन टीचर नीलम मैडम की चुदाई


Author :Unknown Update On: 2015-11-28 08:52:40 Views: 15778

हाय! दोस्तों में समीर, पहली बार अपनी रियल स्टोरी इस साईट पे अपलोड कर रहा हु. आप लोगो की काफी स्टोरीज में पढ़ चूका हु. वैसे में दिल्ली का रहने वाला हु पर अभी पुणे में रहता हु. में उम्र २१ साल है. में दिखने एवरेज हु और

मेरे लंड का साइज़ ६ इंच लम्बा और ३ इंच मोटा है. पर आप यकीं करो या न करो में २ घंटे तक लगातार सेक्स कर सकता हु. मेरा सेक्स टाइम काफी लम्बा है. अब आपको बिना बोर करे अपनी स्टोरी सुनाता हु. यह घटना आज से कुछ साल पहले ककी

है. हमारे पड़ोस में एक लड़की रहती थी. उसका नाम नीलम था और वो दिखने में बहुत सुंदर थी और उसका रंग गोरा था. उनका फिगर मुझे नहीं पता पर क्या बड़ी बड़ी गांड और बूब्स थे. दोस्तों क्या बतायु उन्हें देख कर किसी का भी लंड खड़ा हो

सकता है. वो उम्र में मुझसे काफी बड़ी थी. में उन्हें दीदी कह कर बुलाता था. वो ग्रेजुएट थी इसलिए मेरी मम्मी ने निलम दीदी से मुझे टियुशन देने को कहा. नीलम दीदी भी मान गयी और उनके घर वाले भी मान गए. दीदी के घर में उनके

मम्मी पापा और एक छोटा भाई था. मेरे घर में मैं, मेरी माँ और पापा है, पडोसी होने के कारण हमारे रिलेशन काफी अच्छे थे. और मोहल्ले के सभी लड़के उनको लाइन मरते थे. नीलम दीदी मुझे बायोलॉजी का टियुशन पढाया करती थी. में डेली

उनके यहाँ टियुशन पढने जाता था. और साथ साथ उनके घर के काम में हेल्प भी कर देता था. हमेशा की तरह उस दिन भी रात में ८ बजे में दीदी के यहाँ टियुशन पढने गया. दीदी घर में अकेली थी. दीदी के घरवाले कही बहार गए हुए थे. में दीदी

के कमरे में गया और आज का टॉपिक रिप्रोडक्टिव सिस्टम था. दीदी ने आज पतली और लूसे नाईटी पहनी हुई थी और निचे ब्रा भी नहीं पहनी हुई थी. उसके लटके हुए बूब्स साफ़ दिख रहे थे नाईटी में से. और हां निघ्त्य का गला भी बहुत डीप था.

जिस्में से उनके गोर गोर बूब्स के दर्शन हो रहे थे. तो दीदी ने टियुशन पढ़ना शुरू किया और मुझ से पुछा की समीर तेरी कोई गर्लफ्रेंड है या नहीं. मैंने शरमाते हुए कहा नहीं दीदी मेरी गर्लफ्रेंड नहीं है तो वो बोली की इतना

बड़ा हो गया और कोई गर्ल फ्रेंड नहीं है. तो मैंने टपक से कहा की आपका भी तो कोई बॉयफ्रेंड नहीं है. तो वो बोली हां है ना. फिर थोड़ी देर इधर उधर की बात करके दीदी ने मुझे पढाना शुरू किया और टॉपिक तो आप लोगो को मैंने बताया

रिप्रोडक्टिव सिस्टम. दीदी ने कहा इसे खास तरीके से पढ़ना होगा. मुझे बुक पर पेनिस की एनाटोमी पढ़ते हुए वो अपने बूब्स दबा रही थी. क्या मस्त टाइट बूब्स थे. मुझे उनकी नाईटी में सब साफ़ दिख रहे थे.फिर करीं ३० मिनट बाद दीदी

ने कहा समीर आज में तुझे लाइव पढायुंगी वो भी अपनी छुट पर. यानी की आज में अपनी चूत की एनाटोमी तुझे पढ़ायुंगी. फिर नीलम दीदी ने अपना गाउन ऊपर किया और अपनी चूत पर मुझे पढाना शुरू किया. फिर बोली समीर चूत छु कर देख. और कहा

अंदर ऊँगली डाल कर के देख. तो मैंने वैसा ही किया वो आवाज़े निकलने लगी अहह अह्ह्ह और फिर बोली समीर पेंट उतर आज में तुझे प्रक्टिकली पढायुंगी. यह सुनते ही में तो डर गया. और मैंने मन कर दिया पर दीदी मुझे फाॅर्स करने लगी

और कहने लगी ऐसे पढाई अच्छी होगी और यह सोच कर मैंने अपनी पेंट उतर दी. दीदी ने जैसे ही मेरा लंड देखा तो बस देखती रह गयी. मेरा लंड तो एक दम मुरझाया हुआ था. दीदी ने उसको हाथ में लिया और सहलाने लगी और साथ साथ पढ़ा भी रही थी.

मुझे तो बड़ा मज़ा आ रहा था वाह… क्या बतायु दोस्तों…. पहली बार किसी लड़की ने अपने कोमल कोमल हाथो से मेरे लंड को छुआ था. १० मिनट बाद वो मेरे लंड को चूसने लगी. क्या मज़ा आ रहा था मनो में ज़न्नत में हु. वो मेरा लंड करीब १५

मिनट तक चुस्ती रही. हम दोनों काफी गरम हो चुके थे. और आज दीदी के घर पर कोई भी नहीं था. दीदी ने बेड पर लिटाया और अपना गाउन ऊपर किया. उनकी नंगी छुट देख कर मज़ा आ गया था. उनकी चूत फूल जैसी कोमल थी. और रोटी की तरह फूली हुई थी

और चूत पर एक भी बाल नहीं था और उनकी चूत पिंक दिखाई दे रही थी. नीलम ने मेरे मुह पर अपनी चूत रख दी. वो लम्बी लम्बी आहे भर रही थी. मैंने उनकी चूत को चाटना स्टार्ट किया. तो वो उछलने लगी और अह्ह्ह… उह्ह्ह्ह… करने लगी. में

कुछ देर उनका पानी छुट गया और उन्होंने अपना सर चूतका जूस मेरे मुह में ही छोड़ दिया. उसके जूस का टेस्ट एक दम सोल्टी था. अब दीदी से रहां नहीं गया और वो मुझे बेड पर लिटा कर मेरे लंड से खुद को चुदवाने लगी. क्या मज़ा आ रहा था

क्या बतायु… यारो . कुछ देर चुदने के बाद वो फिर मेरा लंड चूसने लगी. करीब ५ मिनट तक लंड को चूसने के बाद नीलम ने फिर से मुझे अपनी चूतचाटने को कहा. मैंने उनकी गुलाबी चूत को किस करना शुरू किया. और करीब १० मिनट तक किस करता

गया और वो अपने दोनों हाथो से मेरा सर अपनी चूत में दबा रही थी. अह्ह्ह…. उह्ह्ह्ह…. उफ़… की आवाज़ निकल रही थी और मुझे यह आवाज़े सुनकर और भी जोश आ रहा था. कुछ देर बाद वो खुद बेड पर लेती और मुझ से कहा की में उनके ऊपर आया जायु.

और अब नीलम के ऊपर था. फिर वो बोली अपना लंड मेरी चूत में डालने के लिए. मैंने वैसा ही किया क्यूंकि दोस्तों मुझे एक तो कुछ जयादा पता नहीं था और यह तो मेरी पढाई थी न जो मेरी टियुशन टीचर पढ़ा रही थी. हहहः… नीलम निचे से पूरा

जोर लगा रही थी की मेरा लंड उसकी चूत में घुस जाये. मैंने भी ऊपर से पुश करना शुरू किया. और एक ही बार मेरा ६ इंच का लंड उनकी चूत में चला गया. मैंने स्लोली स्लोली अपनी स्पीड बढाई. दीदी की चूत अंदर से बहुत गीली हो गयी थी.

जिस कारण एक आवाज़ आ रही थी पच.. पचक… और नीलम बहुत गरम हो गयी थी. वो नीचे से अपनी गांड उठा उठा कर मेरे लंड से चुदवा रही थी. मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था और में भी अपनी फूल स्पीड में आ गया और वो अपनी गांड को उठाते रही और आखिरकार

इतना चुदने के बाद मैंने अपना पानी नीलम की चूत में छोड़ही दिया. इस तरह मेरी प्रैक्टिकल पढाई और पहली चुदाई पूरी हुई. मुझे इसमें बहुत मज़ा आया और में और नीलम कई बार ऐसे ही मौका देख कर शुरू हो जाते और ऐसें ही कई दिनों तक

सेक्स करते रहे. तो दोस्तों कैसे लगी आपको मेरी कहानी. मुझे जरुर बताइयेगा. में आपके कमेंट्स ला वेट करूँगा.

Give Ur Reviews Here