करके नंगी बजा दी पुंगी 1


Author :Unknown Update On: 2016-01-09 06:12:59 Views: 1786

लेखक – – सम्पादिका – मस्त कामिनी आज काफ़ी दिनों बाद, मैं अपने गाँव वापस जा रहा था। सबसे मिलने की उम्मीद भी थी और मैं बहुत उत्सुक भी था। बिना किसी को बताए, मैं कॉलेज से निकल पड़ा था। इरादा था की सबको, एक “मस्त

सर्प्राइज़” दूँगा। मैं क्या जानता था की जिंदगी खुद मुझे, एक ज़बरदस्त सर्प्राइज़ देने वाली थी। मस्त कहानियाँ हैं, सेक्सवासना डॉट कॉम पर !!! !! मैं बिहार के एक गाँव का हूँ। पुणे में, इंजिनियरिंग कर रहा हूँ। उम्र

22 साल, रंग गोरा और मजबूत कद काठी। सेक्स के बारे में, उस समय मैं ज़्यादा कुछ नहीं जानता था। बस कभी कभार पेड़ पर, झाड़ियों में छुप कर गाँव की लड़कियों और औरतों को नहाते और उनको अपनी छातियों को मलते देखा है। मेरी

गाँव में, काफ़ी लंबी चौड़ी जमींदारी है। बड़ी सी हवेली है। नौकर चाकर। घर में, वैसे तो कई लोग हैं। पर, मुख्य हैं – मेरे बाबूजी, अम्मा, चाचा और चाची। हरिया, हमारी हवेली का मुख्य नौकर है और उसकी पत्नी, किशोरी मुख्य

नौकरानी। मेरे बाबूजी, करीब 50 के होंगे और अम्मा करीब 45 की। मेरा जन्म, इस हवेली में हुआ है और यहीं पर मैंने अपना पूरा बचपन और जवानी के कुछ साल बिताए हैं। हरिया की उम्र, तकरीबन 40 की होगी और किशोरी की करीब 34–35

की। उनकी बेटी भूरी की उम्र, तकरीबन 16-17 की होगी। जो की, मेरे से करीब 5 साल छोटी थी। बचपन में, भूरी मेरे साथ ही ज़्यादातर रहती थी। मैं उसे पढ़ाता था और हम साथ में खेला भी करते थे। हमारा पूरा परिवार, हरिया और किशोरी

को बहुत मानता था। मैं टाँगें पर बैठा था और टांगा, अपनी रफ़्तार से दौड़ रहा था। मेरे गाँव का इलाक़ा, अभी भी काफ़ी पिछड़ा हुआ है और रास्ते की हालत तो बहुत ही खराब थी। जैसे तैसे, मैं अपने गाँव के करीब पहुँचा। यहाँ

से मुझे, करीब पाँच किलोमीटर की पैदल यात्रा करनी थी। शाम हो आई थी। मैंने जल्दी जल्दी, चलना शुरू कर दिया। गाँव पहुँचते पहुँचते, रात हो गई थी। मेरे घर का दरवाजा, खुला हुआ था। मुझे ताजूब नहीं हुआ क्योंकि मेरे

परिवार का यहाँ काफ़ी दबदबा है। मैं अंदर घुसा और सोच रहा थे की सब कहाँ गये और तभी मुझे, भूरी दिखाई पड़ी। मैंने उसको आवाज़ लगाई। वो तो एकदम से हड़बड़ा गई और खुशी से दौड़ कर, मेरे सीने से आ लगी। उसने मुझे, अपने

बाहों में भर लिया। मैंने भी उसको अपनी बाहों में भर कर, ऊपर उठा लिया और उसे घुमाने लगा। वो डर गई और नीचे उतारने की ज़िद करने लगी। मैंने उसकी एक ना सुनी और उसे घूमता ही रहा। तभी एकदम अचानक से, मुझे उसकी “जवानी” का

एहसास हुआ। एकदम से गदराई हुई छाती, मेरे सीने से दबी हुई थी। एक करेंट सा लगा, मुझे। रोशनी हल्की थी, इसलिए मैं चाह कर भी उसकी चूचियाँ नहीं देख पाया पर देखने की क्या ज़रूरत थी। मैं उसके बूब्स का दबाव, भली भाँति समझ

रहा था। मैंने धीरे से, भूरी को उतार दिया। भूरी खड़ी होकर, अपनी उखड़ी हुई साँस को व्यवस्थित करने लगी। मैं उस साधारण रोशनी में भी, उसके सीने के उतार चढ़ाव को देख रहा था। एक मिनट बाद, वो मेरी तरफ झपटी और मेरे सीने

पे मुक्के मारने लगी। मैं हंसता हुआ, उसकी तरफ लपका तो वो भागने लगी। मैंने पीछे से, उसको दबोच लिया। वो, हंस रही थी। मुझे उसकी निश्चल हँसी, बहुत ही प्यारी लगी लेकिन मेरे मन में “शैतान” जागने लगा था। जब मैंने उसको

दबोचा तो जान बुझ कर, मैं उसके पीछे हो गया और पीछे से ही उसको अपने बाहों के घेरे में ले लिया। बचपन के साथी थे, हम इसलिए उसको कोई एतराज नहीं था। ऐसा, मैं सोच रहा था। मैंने धीरे से, अपना उल्टा हाथ उसके सीधे मम्मे पर रख

दिया और बहुत ही हल्के से दबा भी दिया। हे भगवान!! मैंने कभी भी सोचा ना था की लौंडिया की चूची दबाने में, इतना मज़ा आता है। मेरे मुँह से एक सिसकारी, निकलते निकलते रह गई। मैंने उसे यूँ ही दबाए हुए पूछा – घर के सब लोग,

कहाँ गये हैं.. !! उसने उसी मासूमियत से जवाब दिया की सब लोग पास के गाँव में शादी में गये हैं और घर पर उसके माँ और पिताजी के अलावा और कोई नहीं है.. !! बात करते हुए, मैं उसकी चूची को सहला रहा था। वो घाघरा चोली में थी और

उसने कोई ब्रा नहीं पहनी थी। मैं बता नहीं सकता, साहब की मैं कौन से आसमान पर उड़ रहा था। उसकी मस्त चूची का ये एहसास ही, मुझे पागल किए दे रही थी। पर मैं हैरान था की उसकी तरफ से कोई प्रतिक्रिया क्यूँ नहीं हो रही

है। हम आँगन में खड़े थे और मैं बहुत हल्के हल्के, उसकी चूचियों को सहला रहा था और वो हंस हंस के मुझसे बात किए जा रही थी। उसने खुद को मुझसे छुड़ाने की ज़रा भी कोशिश नहीं की। मुझे एक झटका सा लगा। क्या भूरी एकदम

इनोसेंट (मासूम) है और उसे सेक्स के बारे में कुछ भी नहीं पता। मेरे मन ने मुझे धिक्कारा और मैं एक दम से, जैसे होश में आया और भूरी को छोड़ दिया। फिर उसने मेरा सूटकेस उठाया और हम दोनों, मेरे कमरे की तरफ चल पड़े। नहा धो

कर, मैंने शॉर्ट और बनियान पहन लिया और अपने कमरे की खिड़की पर खड़ा हो गया। हमारे गाँव में लाइट कम ही आती है, इसलिए लालटेन से ही ज़्यादातर काम होता है। बरामदे की लालटेन की रोशनी आँगन में पड़ रही थी और चाँद की रोशनी

भी। तभी मैंने किशोरी को, आँगन में आते हुए देखा। उसके हाथ में, कुछ सामान था। वो सामान को एक तरफ रख कर खड़ी हुई थी की आँगन में, मेरे चाचा ने प्रवेश किया। चाचा – क्या रे, किशोरी.. !! भैया भाभी, सब आए की नहीं.. !! किशोरी –

कहाँ मलिक, अभी कहाँ.. !! उनको तो लौटने में, काफ़ी देर हो जाएगी.. !! चाचा – और हरिया.. !! किशोरी – वो तो शहर गये हैं.. !! कुछ कोर्ट का काम था.. !! बड़े मलिक ने भेजा है.. !! शायद, आज ना आ पाए.. !! चाचा – हूँ.. !! तो फिर आज पूरे घर में कोई नहीं

है.. !! मज़ा आ रहा है ना, दोस्तो.. कहानी का आगे का भाग जल्द ही, सेक्सवासना डॉट कॉम पर तब तक मारिये भूरी और किशोरी के नाम का मुठ.. !! यदि आप भी चाहते हैं की आपकी कहानी इसी तरह सेक्सवासना पर प्रकाशित हो तो बस नोटपैड पर

हिन्दी या हिंगलिश में अपनी कहानी लिखिए और भेज दीजिये – sexvasnawap@gmail.com पर..

Give Ur Reviews Here