Home
Category
Sex Tips
Hinglish Story
English Story
Contact Us

मस्त चूत में मदमस्त लण्ड 1


दोस्तों ये कहानी आप सेक्सवासना डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

लेखिका – कशिश शनिवार की सुबह थी। हम दोनों, मैं और मेरे पति ने ये निश्चय किया के हम घर में ही अपने चुदाई का सफ़र चालू रखेंगें, जितना चाहे उतना एक दूसरे को मज़ा देंगें, दूसरे दिन की सुबह तक। शनिवार की सुबह, हम

दोनों नंगे घर में घूम रहे थे। हमने नाश्ता भी नंगे होकर ही किया। मस्त कहानियाँ हैं, मेरी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर !!! !! नाश्ते के वक़्त, हम एक दूसरे के झूल रहे अंगों के साथ खेल रहे थे। जैसे ही नाश्ता ख्तम हुआ, मेरे

पति ने मुझे अपनी बाहों में उठाया और बेडरूम में ले गये। वहाँ उन्होंने अपनी उंगली मेरी चूत में डाली, गोल घुमाई और झटके से निकाल कर चाटने लगे। मेरी चूत में से लगातार, पानी झड़ रहा था। तभी उन्होंने अपना मुंह, मेरी

चूत पे रख दिया और अपनी जीभ, मेरी चूत में एक दम अंदर तक डाल दी। जैसे ही जीभ एकदम अंदर तक गई, मेरा बदन पूरा काँपने लगा और मेरा पानी निकल कर, उनके मुंह में गिरने लगा। वो मेरी चूत से निकल रहे पानी की एक एक बूँद को निगल

गये और मैं संतुष्ट होकर बेड पर गिर गई। लेकिन वो कहाँ रुकने वाले थे, वो मेरे पूरे नंगे बदन पर चूमते हुए मेरे होंठ के पास आए। जैसे ही वो मेरे होंठ के पास आये, मैंने अपना मुंह खोल दिया और मैं अपने पानी का टेस्ट महसूस

करने लगी। मैंने अपने पैर, उनकी कमर पे ऐसे जकड़ लिए की उनका गरमा गरम लण्ड मेरी चूत पे बराबर सेट हो और जैसे ही मैंने ये किया, मेरी चूत का दरवाज़ा उनके लण्ड के लिए खुल गया और उनका एकदम मस्त और बड़ा लण्ड, मेरी गरमा गरम

चूत में अंदर घुस गया। हमारा प्यार जो अब तक धीरे धीरे चल रहा था, वो अब एकदम तूफ़ानी हो रहा था। हम एक-दूसरे को यहाँ वहाँ छू कर और भी तेज़ हो रहे थे। मैंने अपना हाथ, उनकी गाण्ड पे जकड़ लिया। और.. .. एक ज़ोर के झटके के

साथ, उन्होंने अपना पूरा लण्ड मेरी तपती हुई चूत में डाल दिया। मस्त कहानियाँ हैं, मेरी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर !!! !! एक बार पूरा अंदर करने के बाद, उन्होंने बहूत बार अंदर बाहर.. अंदर बाहर.. अपने लण्ड को मेरी चूत में किया

और जितनी बार उन्होंने ये किया, मैं मज़े से चिल्लाने लगी। मैंने अपनी उँगलियों को, उनकी गाण्ड और पीठ पर घुमाया। अपनी उँगलियों को उनकी गाण्ड पर जकड़ा और उन्हें ज़ोर से अपने अंदर दबाया। हमारा शरीर, एक दूसरे में

जकड़ गया था और हमारा शरीर एक दूसरे के शॉट लगाने और महसूस करने के हिसाब से हिल रहा था। ओह माँ.. मैं झड़ने वाली हूँ.. आ आ आ आ आ आ.. और चोदो.. ज़ोर ज़ोर से.. हाँ हाँ हाँ.. मुंम्म्म म मम ममम.. उफ फफफ फ फफफ्फ़.. मैं खुशी के मारे, रो

रही थी। मैंने अपने नाख़ून, उनकी पीठ में घुसा दिए। मेरा झड़ता हुआ पानी, उनके लण्ड पर से गुजरता हुआ उनकी गोटियों से नीचे गिर रहा था और वो पानी मेरी गाण्ड पर फेल रहा था। वो अपना लण्ड और ज़ोर-ज़ोर से मेरी आग से जल रही

चूत में चोद रहे थे। मैं ना जाने कितनी बार झड़ी, ना मुझे पता चला ना उनको। बस उनका मोटा लण्ड, मेरे अंदर बाहर एक दम ज़ोर ज़ोर से चोद रहा था। हमने पोज़िशन बदली और मैं उनके ऊपर आ गई। अब मैंने अपना हाथ उनके कंधों पर

रखा और हम ने चुदाई चालू की उसी जोश में, जैसे वो मुझे चोद रहे थे पर इस बार ऊपर नीचे मैं ज़ोर ज़ोर से हो रही थी। मेरी गाण्ड ज़ोर ज़ोर से ऊपर नीचे हो रही थी, जब तक उनका पूरा लण्ड मेरी चूत में गायब नहीं हो जाता। मेरे

मम्मे ऊपर नीचे हो रहे थे, एकदम उनके मुंह के सामने। मस्त कहानियाँ हैं, मेरी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर !!! !! उफफ़.. क्या लण्ड है.. लण्ड, एकदम मखन की तरह मेरी चूत मैं फिसल जाता है.. क्या लण्ड है.. उफफह.. मैं चिल्ला रही थी और

कुछ ही पल में, मैं फिर से झड़ गई। मैं जान गई की वो भी झड़ने से दूर नहीं है। मैंने महसूस किया की उनका लण्ड अब पानी छोड़ने के लिए तैयार है और मैं चिल्लाने लगी – छोड़ो, अपना पानी जान.. छोड़ो पानी, मेरी गीली गरम चूत में..

जल्दी छोड़ो जान, मुझे तुम्हारा पानी मेरी चूत में चाहिए.. अब आ भी जाओ जान.. मैं और ज़ोर ज़ोर से, अपनी गाण्ड और चूत को उनके लण्ड पे ऊपर नीचे करने लगी। जब मुझे महसूस हुआ की अब वो झड़ने वाले हैं, मैंने ज़ोर से उनके बड़े से

लण्ड को मेरी चूत में और अंदर डाला और मैंने अपने चूत के मसल्स को उनके लण्ड पे दबा दिया। मेरा मुंह, उनके मुंह से कुछ ही दूरी पर था और मैं चिल्ला रही थी – भर दो तुम्हारा पानी, मेरी गरम और मज़ेदार चूत में। ये सब कुछ

ज़्यादा ही था, हमारे लिए। उनका लण्ड, अपना सफेद माल भर भर के मेरी गरम मस्त चूत में खाली कर रहा था। मेरी चूत भरने लगी। जैसे ही उनका पानी झड़ना बंद हुआ, मैंने अपनी चूत की मसल्स से उनके लण्ड को ज़ोर से दबाया और मेरा

बदन तन गया और मैं एक और बार झड़ गई। उन्होंने अपने लण्ड को मेरी चूत में एकदम अंदर तक दबा के रखा और मैं झड़ते हुए, उनके ऊपर गिर गई और हम दोनों ज़ोर ज़ोर से साँसें लेने लगे और हमारा मस्त बदन वापस पहले जैसा होना लगा। अब

वो अपना लण्ड, मेरी चूत में से निकालने लगे। मस्त कहानियाँ हैं, मेरी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर !!! !! मैं एक बार फिर चिल्ला उठी – मत निकालो ना.. रहने दो, तुम्हारा लण्ड मेरी चूत में.. हम एक दूसरे को कस के बैठे रहे। मेरी

चूत, उनके थोड़े से तने हुए लण्ड को महसूस कर रही थी। हमारी मस्ती का पानी, मेरी चूत से निकल कर उनकी गोटियों पर से हमारी बेडशीट में समा रहा था। ये थी, एक एकदम मज़ेदार और जानदार चुदाई, सुबह के नाश्ते के बाद। उनका

लण्ड, अभी भी मेरी चूत में था। हम आराम कर रहे थे पर ये आराम, ज़्यादा देर तक नहीं टिकने वाला था। सफर जारी है.. .. अपने सुझाव और राय भेजना बंद मत कीजियेगा। धन्यवाद लव यु आल सेक्सी कशिश
दोस्तों आज की एक और नई सेक्स कहानी पड़ने के लिये यहाँ क्लिक करें।
Notice For Our Readers

दोस्तो डाउनलोड क्र्रे हमारा अफीशियल आंड्राय्ड अप (App) ओर अनद लीजिए सेक्स वासना कहानियो का . हमारी अप(App) क्म डेटा खाती है और जल्दी लोड होती है 2जी नेट मे वी ..अप(App) को आप अपने फोन मे ओपन रख सकते है

अप(App) का डिज़ाइन आपकी प्राइवसी देखते हुए ब्नाई गयइ है.. अप(App) का अपना खुद का पासवर्ड लॉक है जिसे आप अपने हिसाब से सेट कर सकते ह .जिसे दूसरा कोई ओर अप(App) न्ही ओपन क्र सकता है और ह्र्मारी अप(App) का नाम sxv शो होगा आफ्टर इनस्टॉल आपकी गॅलरी मे .

तो डाउनलोड करे Aur अपना पासवर्ड सेट क्रे aur एंजाय क्रे हॉट सेक्स कहानियो का ...
डाउनलोड करने क लिए यहा क्लिक क्रे --->> Download Now Sexvasna App

हमारी अप कोई व किसी भी तारह के नोटिफिकेशन आपके स्क्रीन पर सेंड न्ही करती .तो बिना सोचे डाउनलोड kre और अपने दोस्तो मे भी शायर करे

   Please For Vote This Story
1
0