Home
Category
Sex Tips
Hinglish Story
English Story
Contact Us

गंदा है पर धंधा है ये 4


दोस्तों ये कहानी आप सेक्सवासना डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

आंटी ने दीदी को इस पोज़ में किया और अंकल को इशारा किया, तो अंकल ने दीदी की गाण्ड से लण्ड को पूरा बाहर निकाल कर एक ही धक्के में लण्ड पूरा 8 इंच अंदर तक डाल दिया. मस्त कहानियाँ हैं, मेरी सेक्सवासना डॉट कॉम पर !!! !! दीदी

की आँखों के सामने, अंधेरा छा गया. (ऐसा कभी कभी हो सकता है पर नो प्राब्लम इन इट.) दीदी को 2-5 मिनट लगे, नॉर्मल होने मे. आंटी दीदी के छेद की मालिश करती रही. 5 मिनट में, जब सब कुछ नॉर्मल हो गया तो अंकल ने ऊपर से ही धीरे धीरे

धक्के मारने स्टार्ट किया. दीदी की गाण्ड से अब “छीछी” भी अंकल के लण्ड के साथ बाहर आ रही थी. जब “छीछी” बाहर आने लगी तो दीदी को ज़्यादा मज़ा आने लगा. दीदी ने चीख के कहा – रुकना मत… अंकल ने अपनी स्पीड धीरे धीरे तेज़

कर दी और 10 मिनट तक दीदी की गाण्ड को चोदने के बाद, वो दीदी की गाण्ड में ही वीर्य निकाल कर दीदी के ऊपर गिर कर अपनी साँसे दुरुस्त करने लगे. आंटी ने अब सबको छोड़ दिया था और वो किचन में खाना बनाने चली गई थी. 5 मिनट बाद, अंकल

और दीदी दोनों उठे और देखा बिस्तर पर थोड़ा सा ब्लड और छीछी भी थी. अंकल ने बेडशीट को बाथरूम में फेंका और अपने कपड़े पहने और दीदी और अपनी वाइफ से “बाइ” बोल कर, अपने घर पर फ्रेश होने निकल पड़े. उनके जाने के बाद, मैं अपने

रूम से निकली. मस्त कहानियाँ हैं, सेक्सवासना डॉट कॉम पर !!! !! फ्रेश हुई. मुझे याद है, उसके अगले दिन से मेरा महीना भी चालू हो गया. दीदी भी फ्रेश हुई और फिर आंटी भी. आंटी ने हम सबको खाना बना कर खिलाया. मैंने देखा, उस

दिन दीदी काफ़ी खुश थी. मुझे तब ज़्यादा कुछ समझ नहीं आया पर आज समझ सकती हूँ. सेक्स, इस आ मिराकल !!! इससे ज़्यादा मज़े देने वाली चीज़, इस वक़्त दुनिया में कुछ भी नहीं है. लोग चाहे इसकी जितनी भी बुराई कर लें पर हम सब,

काफ़ी हद तक सेक्स के गुलाम हैं और हमेशा रहेंगे. ये बात मुझ पर और सभी औरतों पर समान रूप से लागू है. फिर, खाना खाने के बाद मैं, दीदी और रश्मि आंटी सो गये. लगभग 3 बजे पर, हम तीनों लोग थोड़ी थोड़ी देर के अंतराल पर

उठे. थोड़ा नाश्ता किया और फिर इसके बाद, मम्मी का फोन आया तो पता चला की वो एक महीने बाद आएँगी, ज़मीन का कुछ काम संभाल कर और वो अपने गाँव ठीक- ठाक पहुँच गई हैं. हम सबने खास तौर पर दीदी, ने भगवान को धन्यवाद बोला. आंटी ने

दीदी से पूछा – रानी, कल रात मज़ा आया था की नहीं… ?? (रानी, मेरी दीदी का नाम है.) दीदी ने बोला – हाँ रश्मि दीदी, काफ़ी मज़ा आया पर मुझे और चाहिए… आज की रात का भी कुछ इंतज़ाम करो ना… ?? मस्त कहानियाँ हैं, मेरी सेक्सवासना

डॉट कॉम पर !!! !! आंटी ने बोला – रानी, बोल तो तेरे आशिकों को ही… दीदी ने बोला – नहीं, रश्मि दीदी… मैं उन को टेस्ट कर चुकी हूँ… अब कुछ नया चाहिए… रश्मि ने बोला – ठीक से सोच लो और बोलो… तुम्हारे राहुल जीजू के दफ्तर के

दोस्तो को बुला दूँ… मस्त कहानियाँ हैं, मेरी सेक्सवासना डॉट कॉम पर !!! !! दीदी ने आंटी से बोला – ठीक है… जैसा आप, ठीक समझो… मैं उस टाइम, वहीं पर थी. उन दिनों स्कूल में गरमी की छुट्टियाँ चल रही थीं और मैं दीदी के

रंडीपने पर शॉक्ड थी. आंटी ने अपने हसबैंड, राहुल अंकल को फोन मिलाया और दीदी की विश के बारे में बताया तो अंकल ने बोला – ठीक है… शाम को देख लेंगे… दफ्तर के बाद… आंटी ने फोन रख दिया और दीदी को बोला – शाम को फिर से चुदने

को तैयार हो जाओ… मैं शाम को यहाँ नहीं रह सकती… उनके दफ्तर के कुछ दोस्त आ रहे हैं, तुम्हें चोदने… कोई प्राब्लम तो नहीं है… दीदी ने बोला – इसमें प्राब्लम जैसी कोई बात ही नहीं है… आप जाओ और अंजली को भी अपने साथ लेते

जाना नहीं तो पता चला की वो लोग, मेरे साथ साथ इसकी भी बजा देंगे… अभी छोटी है, बेचारी… आंटी ने मेरी तरफ देखते हुए कहा – ओह हाँ… बिल्कुल… मैं तो अंजली के बारे में भूल ही गई थी… ये बोल कर, आंटी ने मुझे अपने सीने से लगा

लिया. उसके बाद, हम सब एक मूवी देखने लगे और शाम का वेट करने लगे. 6.30 पी एम पर रश्मि आंटी, मुझे अपने घर लेकर चली आई और दीदी ने हम लोगों के जाने के बाद, पीछे से बंद कर लिया. मस्त कहानियाँ हैं, सेक्सवासना डॉट कॉम पर !!! !! मैं

रश्मि आंटी के यहाँ पहुँची तो दीदी को लेकर थोड़ा वरीड थी. आंटी ने पूछा – क्या हुआ, अंजली… ?? मैंने बोला – कहीं वो लोग, दीदी को मार तो नहीं देंगे ना… ?? आंटी ने बोला – ऐसा कुछ नहीं होगा, देखना… तुम्हारी दीदी आज की रात

काफ़ी एंजाय करेगी… मैं संतुष्ट नहीं हो सकी की आंटी की बात पर यकीन करूँ की नहीं, पर मैं उस टाइम कर भी क्या सकती थी और मुझे भी ये सब ठीक नहीं लग रहा था. वेट करते करते 8:30 हो गये और मुझे लगा की आज की रात का तो दीदी का

प्रोग्राम कैंसिल हो जाएगा पर ऐसा हुआ नहीं. ठीक 8:30 बजे पर, हमारे घर पर एक टाटा सफ़ारी आई और उसमें से राहुल अंकल के साथ उनके 3 दोस्त भी उतरे. सफ़ारी लॉक करने के बाद, राहुल अंकल उन तीनों को लेकर मेरे घर के डोर पर पहुँचे

और डोर नॉक किया. दीदी ने डोर ओपन किया. (कॉलोनी के सभी लोग ये देख रहे थे और यहीं से हमारी बदनामी की शुरूवात हुई थी.) कहानी जारी रहेगी.. अगर आपको मेरी कहानी पसंद आई तो अपना फीड बैक अवशय भेजें..
दोस्तों आज की एक और नई सेक्स कहानी पड़ने के लिये यहाँ क्लिक करें।
Notice For Our Readers

दोस्तो डाउनलोड क्र्रे हमारा अफीशियल आंड्राय्ड अप (App) ओर अनद लीजिए सेक्स वासना कहानियो का . हमारी अप(App) क्म डेटा खाती है और जल्दी लोड होती है 2जी नेट मे वी ..अप(App) को आप अपने फोन मे ओपन रख सकते है

अप(App) का डिज़ाइन आपकी प्राइवसी देखते हुए ब्नाई गयइ है.. अप(App) का अपना खुद का पासवर्ड लॉक है जिसे आप अपने हिसाब से सेट कर सकते ह .जिसे दूसरा कोई ओर अप(App) न्ही ओपन क्र सकता है और ह्र्मारी अप(App) का नाम sxv शो होगा आफ्टर इनस्टॉल आपकी गॅलरी मे .

तो डाउनलोड करे Aur अपना पासवर्ड सेट क्रे aur एंजाय क्रे हॉट सेक्स कहानियो का ...
डाउनलोड करने क लिए यहा क्लिक क्रे --->> Download Now Sexvasna App

हमारी अप कोई व किसी भी तारह के नोटिफिकेशन आपके स्क्रीन पर सेंड न्ही करती .तो बिना सोचे डाउनलोड kre और अपने दोस्तो मे भी शायर करे

   Please For Vote This Story
4
1