Home
Category
Sex Tips
Hinglish Story
English Story
Contact Us

खाना बनाने वाली दीदी की चुदाई


दोस्तों ये कहानी आप सेक्सवासना डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

हेलो फ्रेंड्स ! मेरा नाम रोहन शर्मा है, मै इंदौर में रहता हूँ। 28 साल का युवक हूँ। जॉब करता हूँ। मेने अब तक ४ औरतों की चुदाई कर चूका हूँ। मेरे लण्ड का आकर ८ इंच है। आज मै आप को मेरी एक चुदाई की घटना बताना चाहता हूँ की

खाना बनाने वाली बाई को कैसे चोदा। तो सुनो- उसका नाम सुमन है, 33 साल की बड़े-बड़े बूब्स और गांड वाली माल है, पहले दिन ही उसे देख के मेरे अंदर का जानवर जाग गया था। उसका ३६-३०-३८ का फिगर देख के चुदाई के लिए बेताब हो गया,

क्योकि मै अकेला रहता हु और मेरी कोई गर्लफ्रेंड भी नही है इसलिए चुदाई के लिए हर टाइम तड़पता रहता हु। तो मै पहले दिन से ही सुमन को पटाने में लग गया। मेने सोचा थोड़ा रेस्पेक्ट के साथ बात सुरु करनी चाहिए सो मेरे उसे बाई

न बुलाते हुए दीदी कह कर संम्बोधित किया और आज क्या खाना बनाना हे उसे बताया। मै किचन में ही खड़ा रह कर उस से बात करने लगा क्योकि मुझे तो जान-पहचान बढ़ाने की जल्दी थी और हां खाना कैसे बनती वो भी तो देखना था। मेने उस से

पूछा की और कहा-कहा खाना बनती हो? घर में कौन-कौन हे? जैसे कुछ बातें जो सामान्य परिचय के लिए पूछा जाता हे। उसने बताया की वो एक जगह और खाना बनती हे और परिवार में पति, एक बेटा ६ साल है। मेरे अच्छे से बात करने से वो भी बहुत

जल्दी कंफरटेबल हो गई और मुझसे अच्छे से बात करने लगी। जब वो रोटी बेल रही थी तो मै उसके बड़े-बड़े बूब्स को हिलते हुवे देख रहा था और सोच रहा था की कब ये दबाने को मिलेंगे। २-३ दिन में ही बाई को समझ में आ गया था की मै बात

करने के बहाने उसके बूब्स और गांड को घूरते रहता हूँ। मै भी बातो-बातो में उसके हुस्न की तारीफ़ कर देता था और फ्रेंड्स जैसे की हर औरत को तारीफ पसंद हे, वैसे ही सुमन भी अपनी तारीफ सुन के बहुत खुश हो जाती थी। कभी उसके खाने

की भी तारीफ कर देता था, की खाना बहुत स्वादिस्ट बनती हो और दोस्तों वो खाना सच में बहुत अच्छा बनती थी। करीब ७ दिन हो गए थे उसे मेरे या खाना बनाते हुए और अब उसे भी यकीं हो गया था की मै उसे पटाने की कोशिश कर रहा हु। अब तो

उसके नखरे गर्लफ्रेंड की तरह हो गए थे, मेरा मतलब वैसे तो नहीं पर खाना बनाते टाइम बोला करती थी, की आप सब्जी ताजी नहीं लाते हो, कितना कम खाते हो, रोज खाना बचा देते हो जैसे। अब हमारे बीच अच्छे से बात होने लगी थी,

हँसी-मजाक भी करने लग गए थे। अब मै उसे छूने के बहाने ढूँढता था। किचन से कुछ लेने के बहाने उसकी गांड को छू लेता था। दिन-प्रतिदिन ये छूना बढ़ता गया और अब तो मै गांड और बूब्स जैसे शब्दोँ का उपयोग करने लगा था की दीदी आप के

बूब्स बहुत बड़े-बड़े हे, आपकी गांड बहुत खूबसूरत है। वो बस हँस -हँस के मेरी बातो को एन्जॉय करती थी, और कुछ नहीं बोलती थी, बस अपनी नशीली आखो से मुझे देख लिया करती थी। मै उसे गरम करने वाली बाते किया करता था, की दीदी आप के

पति की राते तो बहुत रंगीन कटती होगी, आप इतनी खूबसूरत हो की उसकी तो हर रात मज़े में होती होगी। मेरी ऐसी बातो से उसका चेहरा और आँखे चमक उठती थी, पर वो कहती थी, चुप करो किसी गन्दी-गन्दी बाते कर रहे हो, जबकि ऐसी बातो से

उसको बहुत मज़ा आ रहा होता हे। मै उसकी गांड और बूब्स को छूने की इजाज़त मागते रहता था- की दीदी मुझे भी एक बार आपकी गांड और बूब्स को छूने दो न, वो बोलती थी- की दीदी-दीदी कर रहे हो और मुझे छूने की बात करते हो। मेने कहा तो अब

मै आप को दीदी नहीं कहूँगा, तो सुमन जोर से हँसी और बोली की बस छूने के लिए तुम मुझे दीदी नहीं कहोगे ? तो मेने कहा आप कहो तो और भी कुछ कर लूंगा कहते हुए उसके पीछे से जा के उसकी गांड से चीपक गया और उसके बगल से हाथ डाल कर

बूब्स को पकड़ लिया और जोर से दबा दिया। मेरे ऐसा करते ही वो आअह्ह्ह्ह करते हुए मुझसे दूर हो गई और कहने लगी ऐसा मत करो, आप मुझसे हसी-मजाक करते हो उतना ही ठीक हे ये सब नहीं करो। उसने ये सब इतने प्यार से कहा की मेरा मन मचल

गया, और मै ठीक हे कह कर बेड रूम में आ गया। पर मेरे लंड को बाई की गांड का एहसास कैसे भुलाता, लौड़ा तो पूरा खड़ा हो गया, मेने हाथ में पकड़ के थोड़ा हिलाया, पर मेरा मन नहीं मान रहा था। मुझे तो आज कैसे भी बाई की चुदाई करना

है, क्योकि बाई की वो मुलायन गांड और बूब्स का एहसास मै नहीं भूल सकता था। मै ये सब सोच ही रहा था की बाई की आवाज आई– भैया में जा रही हूँ। ओह ये क्या, वो तो जा रही है, मेने कहा रुको और वो क्या कहते हुए पीछे मुड़ी और मेने

जल्दी से उसका चहरे को पकड़ के होठों पर किश करने लगा, उसने छुड़ाने हुए बोली मत करो ऐसा मुझे जाने दो, मेने कहा किश तो करने दो और मेने फिर से किश करने लगा, फिर उसने छुड़ाया और नहीं-नहीं करने लगी। अब की बार मेने उसे जोर से

पकड़ा और वही दिवार से उसे सटा कर फिर किश करने लगा, फिर वो छुड़ाते हुए मुझसे अलग हुई और एक थप्पड़ मेरे गाल पर मार दिया, और चुप-चाप मुझे देखने लगी और मै उसे देख रहा था…… फिर वो अचानक से आगे बड़ी और मुझे किश करने लगी फिर मै भी

टूट पड़ा होठो पर, गर्दन पर, माथे पर, उसके पूरे चैहरे पर किश करने लगा। उसे अपनी बाँहो में भर लिया और उसकी बड़ी गांड दबाने लगा और किश करते जा रहा था,वो भी पूरा-पूरा साथ दे रही थी, उसे अपनी बाहों में उठाया और बिस्तर पर ले

आया। बिस्तर पर लेटा कर मै उसके ऊपर लेट गया और बूब्स दबाते हुए उसके रसीले होठों का रस पान करने लगा। वो तो आंखे बंद करके किश करने में इतनी मग्न हो गई जैसे जन्म-जन्म की प्यासी हो। मेने बहुत प्यार से ब्लाउज के हुक

खाले और ब्रा के ऊपर से ही बूब्स को जोर-जोर से दबाने लगा वो मेरे हाथ पर हाथ रखे आँखे बंद किये अपने बूब्स दबवा रही थी। अब में उसकी नाभि पर किश करने लगा और नाभि के छेद में जीभ डाल के चाटने लगा, मेने जैसे ही उसकी नाभि को

चाटना चालू किया वो जोर-जोर से आआआह्ह्ह्ह्ह आआआअह्ह्ह्ह आआआअह्ह्ह्ह करने लगी ये सुन कर मुझे और जोश आ गया और जल्दी से उसका पेटीकोट उठा के अपना मुह उसकी चिकनी चूत पर लगा दिया। जैसे ही चूत पर मुह लगाया वो

आआआआह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह करते हुए उछल गई और अपनी दोनों टाँगो से मेरी गर्दन पर कैची बना के मुझे जोर से पकड़ लिया। मेने चूत को चाटते हुए ही उसके पैरों को पकड़ कर फैला दिया और चूत को कुत्ते की तरह चपड़-चपड़ चाटने लगा।

फ्रेंड्स, मै यहाँ बताना चाहूंगा की मुझे चूत चाटना बहुत अच्छा लगता हे। बाई के पैरों को जितना चोडा कर सकता था उतना चोडा करके उसकी चूत चाट रहा था मै और बाई अपनी गांड उठा-उठा के चूत चटवा रही, पर बोल कुछ भी नहीं रही थी

बस आआह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह आआआआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह कर रही थी और जोर-जोर से साँसे ले रही थी और मेरा सर पकड़ के चूत पर दबा रही थी। मै चूत को दो उंगलियों से चौड़ी कर-कर के चाट रहा था, चाटते-चाटते जब जीभ को चूत के छेद में घुसा

देता था तो वो और जोर से आअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह आअह्ह्ह्ह्ह्ह ऊऊऊआअह्ह्ह उउअअअअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह करने लगती थी। करीब १० मिनट तक चूत चाटते रहा, चाट-चाट कर चूत को लाल कर दिया था। इस १० मिनट में वो २ बार झड़ गई। अब

मै उठा और अपने कपडे उतारने लगा। वो बिस्तर पर पड़े-पड़े हॉफ रही थी और मेरी तरफ बहुत प्यार से और चाहत भरी निगाहों से देख रही थी। जैसे ही मेने सारे कपडे निकल कर अपना 8 इंच का लम्बा और मोटा लंड हाथ में ले कर हिलाया और उसे

दिखाया तो उसने शरमा कर अपना चेहरा दूसरी तरफ घूमा लिया। मै अब उस पर चढ़ गया और उसके बड़े-बड़े बूब्स पर बैठ गया, आआह्ह्ह क्या गद्दी थी बैठने के लिए। बूब्स पर बैठ कर अपने मोटे, लम्बे लौड़े को उसके होठों पर रगड़ने लगा, तो वो

गप्प से लंड के सुपाड़े को होठों में दबा लिया, उसके इस अचानक वॉर से मेरे मुह से आह्ह्ह निकल गई। थोड़ी देर ऐसे ही लौड़ा चूसने के बाद मै उठा और ६९ पोजिसन में आ गया। अब मै उसकी चूत चाट रहा था और वो मेरा लंड। फ्रेंड्स क्या

बताऊ कितना मज़ा आ रहा था मै तो जन्नत में था। एक तो चूत चाटने का मज़ा और दूसरा लंड चुसाने का। वो मेरे लौड़े को जोर-जोर से चूस रही थी और मै भी उसकी चूत में ऊँगली करने हुए चाट रहा था। वो बहुत गरम हो गई थी और ऊह्ह्ह ऊऊऊह ऊह

करते हुए लौड़े को मुँह में ही लिए सिर को इधर-उधर झटकने लगी। उसे ऐसा करते देख मै और जोर-जोर से चूत को चाटने लगा, मुझे उसे तड़पने में मज़ा आ रहा था। थोड़ी देर ऐसा करने के बाद ही उसने लंड को मुह से निकला और जोर से बोली चूत

में लंड डालो…. मत तड़पाओ प्लीज….. चोदो……… चोदो.. मै भी जोश में था। मुझे भी लगा की अब इसकी चुदाई करने में मज़ा आएगा और जल्दी से घुमा और उसके टाँगो के बीच में बैठ कर उसकी टांगों को कन्धे पर रख के लौड़े को चूत पर सेट करके एक

जोर का झटका मारा……. एक ही झटके में आधा लंड फच्च की आवाज के साथ चूत में घुस गया और दोनों के ही मुह से आनंद की आअह्ह्ह निकल गयी। दूसरे झटके में पूरा की पूरा लंड चूत में फिट हो गया। वो तो जोर जोर से ऊऊउइ ऊऊऊईइ ऊऊऊईइ आह्ह

आह्ह कर रही थी। अब मेने झटके मारना चालू किया, पहले ३-४ धक्के धीरे-धीरे मारा फिर अचानक से स्पीड बड़ा दिया और जोर-जोर से धक्के मारना चालू कर दिया। पूरे रूम में फच्च फच्च फच्च की मन-मोहक आवाज आ रही थी। वो आँखे बंद किये

आअह्हह्हह आह्ह्ह्हह्ह उउउउउइइइइ उउउइइइइइइइ आह्ह्ह आम्म्म्म्म करते हुए चुदा रही थी। मेरे हर धक्के के साथ उसकी आअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह निकल रही थी। मै तो स्पीड से पेलने में लगा था। वो आह्ह्ह चोदो… चोद…. फाड़ दे.. जोर से

आअह्ह आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह चोद बहुत मज़ा आ रहा हे फाड़ दे मेरी.., उसकी ये बाते और आअह्ह्ह आह्ह्ह आइइइइइइइइइ उउउइइइइइइइइइ की आवाज सुन के मै भी आअह्ह्ह आह्ह करते हुए तेजी से ठुकाई कर रहा था और बोल रहा था ले मेरा लण्ड.. ले

मेरी रानी आज तेरी चूत फाड़ दूंगा…. बोल मेरा लौड़ा केसा लगा ? बोल.. मेरा लण्ड तेरी चूत को केसा लगा ? वो बोली मूसल हे तेरा लण्ड फिट हो के जा रहा हे चूत में। आअह्ह आअह्ह्ह्ह्ह्ह जोर से चोद.. आआह्ह्ह्ह। १०-१२ मिनट ऐसे ही

चुदाई करते रहे फिर मेने उसे घोड़ी बनने को कहा तो वो बोली नहीं ऐसे ही चोदते रहो मै आ रही हूँ , मेने भी अपनी स्पीड बड़ा दिया और चोदता रहा। अब वो और जोर जोर से चिल्लाने लगी आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह

आऐइइइइइइइ आआआईइइइइइइइइआ आआआआअ करते हुए झड़ गई और बहुत स्पीड से चुदाई करने के कारण मै भी उसकी चूत में अपने लण्ड का लावा भर दिया और उसके ऊपर ही लुढ़क गया। हम दोनों पसीने से पूरे भीगे हुए एक-दूसरे की बाँहो में करीब ५

मिनट पड़े रहे। फिर हम उठे और वो कपडे पहन कर फिर मेरे गले में बाहें डाल कर कर मेरे होठों पर एक लम्बा किश करके बोली अब मै जाऊ ? तो मेने भी उसकी गांड दबाते हुए बोला जाओ मेरी जान। फिर वो चले गई और मै बाथरूम में जा के नहाने

लगा। ये थी मेरी कहानी। कैसी लगी जरूर बताना फ्रेंड्स ताकि मै अपनी सेक्स लाइफ के बारे में और बता सकू। मेरा ईमेल- masxxx28@gmail.com
दोस्तों आज की एक और नई सेक्स कहानी पड़ने के लिये यहाँ क्लिक करें।
Notice For Our Readers

दोस्तो डाउनलोड क्र्रे हमारा अफीशियल आंड्राय्ड अप (App) ओर अनद लीजिए सेक्स वासना कहानियो का . हमारी अप(App) क्म डेटा खाती है और जल्दी लोड होती है 2जी नेट मे वी ..अप(App) को आप अपने फोन मे ओपन रख सकते है

अप(App) का डिज़ाइन आपकी प्राइवसी देखते हुए ब्नाई गयइ है.. अप(App) का अपना खुद का पासवर्ड लॉक है जिसे आप अपने हिसाब से सेट कर सकते ह .जिसे दूसरा कोई ओर अप(App) न्ही ओपन क्र सकता है और ह्र्मारी अप(App) का नाम sxv शो होगा आफ्टर इनस्टॉल आपकी गॅलरी मे .

तो डाउनलोड करे Aur अपना पासवर्ड सेट क्रे aur एंजाय क्रे हॉट सेक्स कहानियो का ...
डाउनलोड करने क लिए यहा क्लिक क्रे --->> Download Now Sexvasna App

हमारी अप कोई व किसी भी तारह के नोटिफिकेशन आपके स्क्रीन पर सेंड न्ही करती .तो बिना सोचे डाउनलोड kre और अपने दोस्तो मे भी शायर करे

   Please For Vote This Story
9
2