घर बुलवा के चुदवाया

('')


Author :समीर Update On: 2016-05-07 Views: 1662

हैल्लो दोस्तों में समीर में मुम्बई से हूँ। दोस्तो मे सेक्सवासना का रेगुलेर रीडर हूँ। aओर पहली बार अपना रियल अनुभव आपको बताने जा रहा हूँ। वैसे मे कोई राईटर नही हूँ। इस लिए कोई ग़लती हो जाये तो संभाल लेना उम्मीद

है आपको मेरी कहानी पसंद आएगी। अब मे सीधे अपनी कहानी पे आता हूँ 6 महीने पहले मेरे साथ हुई यह सच्ची घटना के बारे मे बताता हूँ। दोस्तो ऐसे तो मे मिडिल क्लास फेमली से हूँ। मे एक फुटवेयर शोरुम मे सेल्समेन हूँ। एक दिन

एक मेडम हमारे शॉप मे सेंडल लेने आई। काफ़ी गुड लुकिंग जीन्स और टी शर्ट पहनी थी उसने। उसकी ऊम्र 28 और 38-34-36 सेक्सी फिगर था। उनके बूब्स काफ़ी बड़े थे जो टी शर्ट मे काफ़ी सेक्सी लग रहे थे। वो अंदर आ कर सेंडल देख रही थी। तभी

उन्होने मुझसे सेंडिल दिखाने को कहा। मेने उन्हे स्माल सोफे पर बैठने के लिए कहा और मैने नीचे छोटे स्टूल पर बैठकर सेंडल दिखाना शुरू कर दिया वो जब नीचे झुक के सेंडल ट्राई कर रही थी तो उनके बड़े बड़े बूब्स मुझे दिखाई

दिए। इतने बड़े बूब्स मेने रियल मे पहली बार इतने पास से देखे थे। वह भी बहुत से सेंडल ट्राई कर रही थी और मेरा ध्यान उसके बूब्स पर था। मुझे ऐसा लग रहा था कि अभी उनकी टी शर्ट मे हाथ डालके उनके बूब्स दबा दूँ लेकिन जॉब के

खातिर मेने काफ़ी कंट्रोल किया लेकिन मेरा लंड कंट्रोल नही कर सका उसने मेरी पेंट को तंबू मे बदल दिया ओर यही बात शायद उन मेडम के समझ आ गई थी वो उठकर खड़ी हो गई। मेरे पूछने पर उन्होंने कहा आपकी शॉप मे मेरे साईज़ के

सेंडल नही है काफ़ी बड़े है उस वक्त मे उनका ईशारा समझ नही पाया मेने सोचा शायद वो सेंडल के बारे मे बोली होगी फिर मेने मेडम से कहा सेंडल पसंद कर लीजिए हम आपकी साइज़ की बनवा देंगे। फिर उन्होंने पसंद करके अलग अलग कलर मे

4 सेंडल का ऑर्डर करके मेरा नाम पूछ तो मेने अपना नाम समीर बताया। फिर उन्होंने अपने क्रेडिट कार्ड से 6400/- रूपये का फुल पेमेंट एडवांस करके बिल ले लिया। वो शायद काफ़ी अमीर होगी और हमने उन्हे 6 दिन बाद आने के लिए कहा और

उन्होंने जाते जाते एक प्यारी सी मुस्कान दे कर मुझे थेंक्स कहा। 5 दिनों बाद उनकी ऑडर की हुई सेंडल तैयार होकर आ गई। फिर मे मेडम का इंतज़ार करने लगा लेकिन वो नही आई और 4 दिनों बाद उन्होंने बिल के ऊपर दिए फोन नंबर से

हमारी शॉप पर फोन किया मेनेजर ने फोन उठाकर बात की तो उन्होने कहा मेरे 4 साल के बेटे की तबीयत ठीक नही है इसलिए मे नहीं आ सकी और अब भी उसकी तबीयत थोड़ी ठीक नही है। आप मेरे सेंडल होम डिलवरी कर सकते है प्लीज। तो मेनेजर ने

कहा मेडम ठीक है आपने फुल पेमेंट कर दिया है आप अपना नाम पूरा पता और फोन नम्बर दे दीजिए मे किसी के साथ भिजवा दूँगा। तो मेडम ने कहा किसी को नही वो आपका सेल्समेन समीर है ना उसे भेज दीजिए मेने उसे देखा है तो आप उसे ही भेज

दीजिए मेनेजर ने मूझे पता और नम्बर दिया और जाने के लिए कहा। मेने दूसरे दिन सुबह में मेडम को फोन कर के कहा में सेंडल लेकर आ रहा हूँ उन्होने कहा ठीक है। जल्दी आ जाओ। मे उनके पते पर पहुँच गया जो की एक पोश इलाके के एक

फ्लेट मे रहती थी। मेने घंटी बजाई तो एक नौकरानी ने दरवाजा खोला मेरे बताने पर मुझे हॉल मे बैठाकर मेडम को बुलाने चली गई। 2 मिनिट बाद मेडम आई क्या सेक्सी लग रही थी। वो टॉप शॉर्ट स्कर्ट मे उनके गोरे 2 हाथ और पैर सेक्सी

दिख रहे थे और बूब्स उछाल उछाल कर वो आ रही थी और उन्होने नौकरानी से घर जाने के लिए कहा। मेने मेडम से कहा गुड मॉर्निंग मेडम आपके बेटे कि तबीयत कैसी है। उन्होने कहा अभी ठीक है और कहा मेरा नाम सोनिया है। फिर मे सेंडल

निकाल कर दिखाने लगा सोनिया ने मुझे शॉप जैसे नीचे बैठकर पहनने के लिए कहा सेंडल पहनते मेरी नज़र उनकी गोरी टांगो पर गई तो सोनिया ने अचानक कहा क्या देख रहे हो उस दिन शॉप मे तुम्हारी नज़र कहाँ थी ये तुम्हारा खड़ा लंड

बता रहा था। मेडम की बाते सुनकर पहले तो मे डरने लगा सोनिया मेरी शॉप मे शिकायत ना कर दे लेकिन मेरी हालत देखकर सोनिया हँसने लगी और सोनिया ने झट से मुझे अपनी और खींच लिया और मुझे किस करने लगी सोनिया ने मेरी बोलती बंद

कर दी थी मे भी अभी कुछ कुछ समझने लगा था की सोनिया ने मुझे क्यों बुलाया है। मेने सोनिया से कहा आपका बेटा जाग जाएगा तो सोनिया ने कहा मेरा बेटा तो स्कूल मे है और पति एक महिने से बाहर व्यापार के काम से गये है। इस लिए

तुम्हे बुलाया है। मुझे एक बार खुश कर दो और अपनी महीने की सेलरी ले लो। और वो पागलो की तरह किस करने लगी। मुझे तो लग रहा था की मे सपना देख रहा था लेकिन ये सच था। 10 मिनिट तक हम किस ही करते रहे फिर मे भी जोश मे आकर उनका साथ

देने लगा और उनके पूरे चहरे पर किस करते करते उनके बड़े बड़े बूब्स दोनो हाथो से दबाने लगा। फिर सोनिया ने मेन डोर लॉक करके मुझे अपने बेडरूंम ले गई और मेरे कपड़े उतारने लगी मे भी उनकी जीन्स और टॉप उतारने लगा। अब वो काले

कलर के ब्रा और पेंटी मे थी। उन्हे देखते ही मेरा लंड साँप की तरहा फनफनाने लगा और मेने उन्हे बेड पर लिटा कर किस करना शुरू कर दिया सोनिया ने भी मेरा जमकर साथ दिया हम दोनो की सांसे गरम हो रही थी। मेने उन्हे किस करते

करते एक हाथ से उनके बूब्स सहलाने लगा और दूसरा हाथ उनकी पेंटी मे डालकर उनकी चूत सहलाने लगा धीरे धीरे वो गरम होने लगी वैसे ही मे ज़ोर जोर से उनके दोनो बूब्स दबाने लगा और दूसरे हाथ का अंगूठा उनकी चूत मे घुसाने लगा

उनकी चूत अब गीली हो गई थी। फिर मेने अंगूठा अंदर बाहर करना शुरू कर दिया वो अब बहुत गरम हो गई थी ओर सोनिया जोश में आकर अपनी ब्रा खुद निकाल कर अपना एक बूब्स अपने हाथ से मेरे मुहँ मे डालकर मेरा सर अपने बूब्स पर दबा रही

थी और कह रही थी चूस मेरे राजा पूरा दूध पी ले मेरा और मे एक हाथ से उनका दूसरा बूब्स दबा रहा था। तब कुछ वक्त बाद दूसरे बूब्स मुहँ मे लेकर पहला दबाने लगा। और नीचे अंगूठे से चूत की चुदाई कर रहा था। अब सोनिया बहुत गरम

होकर आहें भर रही थी आआह्ह्ह्। अब सोनिया ने पानी छोड़ दिया मेरा अंगूठा गर्म फव्वारे मे डूब गया था। फिर मेने उसे टाँगे फैला कर बैठा दिया ओर उसकी चूत चाटना शुरू कर दी। दोस्तों क्या गोरी गोरी पिंक कलर की चूत थी और उस पर

एक भी बाल नहीं था। ऐसी चिकनी चूत मेने रियल मे पहली बार देखी थी। सोनिया भी अपनी चूत उठा उठा कर मेरे मुहँ मे दे रही थी और मेरा सर अपनी चूत पर दबा रही थी और मुझ से कहने लगी समीर तुम्हे मालूम नही मेरा पति सिर्फ़ मुझे

चोदता है असली सेक्स उसे पसंद ही नही। वो ना खुद मेरी चूत चाटता है और ना ही मुझे अपना लंड चूसने देता है। लाइफ मे पहली बार किसी से मे अपनी चूत चटवा रही हूँ। चाटो मेरे राजा आज मेरी चूत की प्यास बुझा दो। सुन कर मुझे भी

जोश आया और हम 69 पोज मे एक दूसरे के चूसने लगे। सोनिया ने भी ज़ोर जोर से मेरा लंड चूसना शुरू किया। 15 मिनट बाद मे भी झड़ गया। सोनिया मेरा पूरा रस पी गई मेने उसकी चूत चाट कर उसे इतना गरम कर दिया था की वो मेरा लंड चूस चूस कर

फिर से लम्बा मजबूत कर दिया। अब मेरा लंड उसे चोदने के लिए तैयार था। मैने सोनिया की टाँगे बेड के किनारे लाकर उठाई और उसकी चूत को अपने लंड से सहलाने लगा। उसने कहा समीर तड़पाओ मत अपना लंड चूत मे डालकर मेरे चूत की आग

बुझा दो। मैने भी एक जोरदार झटका दिया और आधा लंड चूत के अंदर डाल दिया। उसके मुहँ से चीख निकल गई और कहने लगी चोदो मेरी जान। मैने पूरा लंड अंदर डाल के धीरे धीरे स्पीड बड़ाई और वो भी अपनी कमर उठा उठा कर चुदवा रही थी।

मैंने उसे एक साइड से कमर के बल लेटने को कहा ओर उसकी एक टांग उठा कर अपना एक पैर बेड पर रखकर क्रॉस होकर चुदाई शुरू की जिससे मेरा पूरा लंड गहराई से सोनिया की चूत मे जा रहा था। वह ज़ोर जोर से चीखने लगी बोली समीर इतना

अंदर मत डालो इसकी मुझे आदत नहीं है। मगर मेरे लंड को काफ़ी सूकून मिल रहा था। मेने उसे चोदते चोदते किस करने लगा और उसके बूब्स भी चूसने लगा जिससे उसे और मज़ा आ रहा था। फिर सोनिया ने मुझे बेड पर लेटा कर मेरे लंड को

अपने हाथ से अपनी चूत पर डालकर बैठ गई ओर ऊपर नीचे होने लगी। अपनी चूत मेरे लंड पर दबा दबा कर मज़ा ले रही थी। 15 मिनट बाद सोनिया झड़ गई। में भी झड़ने वाला था। मैने सोनिया से पूछा मेडम मेरा वीर्य बाहर निकालने वाला है लंड

बाहर निकालूँ तो सोनिया ने मना कर दिया और कहने लगी डरने की बात नही पूरा रस अंदर ही निकालना मैने अपने अंदर कॉपर-टी लगवा रखी है जितना चाहो रस अंदर छोड़ो कोई फर्क नहीं पड़ता। फिर मे सोनिया की चूत के अंदर ही रस डाल दिया.

हम दोनो एक दूसरे को किस करके पास-पास लेटे रहे। फिर हम दोनो साथ-साथ बाथरूम में शावर के नीचे नहाये फिर सोनिया ने फिर से मुझे अपनी चूत चाटने को कहा। वो भी मेरा लंड चूसने लगी। हम बाथटब मे 69 पोज मे चुसाई करने लगे. कुछ देर

बाद हम दोनो झड गये। सोनिया को चोदने से वो काफ़ी खुश थी। मेने अपने कपड़े पहनकर जाने के लिए तैयार हो गया। उसने मेरे हाथ में 1000 के 5 नोट देने की कोशिश की जिसे मैने मना कर दिया। दोस्तों वो आज भी मुझे फोन करके बुलाती है।

और मुझे भी मजा देती है और खुद भी लेती है। दोस्तों ये मेरी सच्ची कहानी है।

Give Ur Reviews Here