Home
Category
Sex Tips
Hinglish Story
English Story
Contact Us

दोस्त ने आपनी बीबी की वासना शांत करवाई मुझसे


दोस्तों ये कहानी आप सेक्सवासना डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम हरीश है। दोस्तों इस कहानी में मैंने एक पति की पत्नी को उसके कहने पर बहुत जमकर चोदा, उसकी प्यास बुझाई और अपनी चुदाई से उसे पूरी तरह से संतुष्ट किया। वो सभी बातें वो घटना में आज आप सभी

सेक्सवासना डॉट कॉम के चाहने वालों के लिए लेकर आया हूँ और अब में आप सभी को ज्यादा बोर ना करते हुए सीधा अपनी आज की कहानी पर आता हूँ और पूरी तरह विस्तार से सभी को सुनाता हूँ। दोस्तों यह कहानी एक रोहित नाम के लड़के की

है, जिससे में बहुत कम समय में बहुत अच्छी दोस्ती हो गई थी और हमने एक दूसरे का मोबाईल नंबर ले लिया था और फिर उसने मुझे एक दिन फोन किया, तब उसने मुझे अपने और अपनी पत्नी के बारे में मुझे बताया और उसने मुझे बताया कि वो

अपनी पत्नी को कभी संतुष्ट नहीं कर पाता है, क्योंकि उसका लंड थोड़ा छोटा है और उसकी शादी को पूरे दो साल हो चुके थे, लेकिन उसके अभी तक कोई भी बच्चा नहीं हुआ था, वो अपनी पत्नी को बहुत प्यार करता है और अब वो अपनी पत्नी को

मुझसे चुदवाना चाहता है। दोस्तों उसकी पत्नी नाम सीमा था और उसने मुझसे मेरे लंड की कुछ फोटो भेजने के लिए कहा और फिर मैंने भी अपने लंड की फोटो को उसे भेज दिया। दोस्तों मेरे लंड का साईज़ 6 इंच है और 3 इंच मोटा है तो

उसकी पत्नी को मेरे लंड की फोटो देखकर बहुत अच्छी लगी, जिसकी वजह से वो मेरे लंड को देखकर बहुत खुश हो गई थी और फिर उसने मुझसे उसकी पत्नी को चोदने के लिए कहा और उसकी पत्नी ने भी मेरा दमदार लंड देखकर बहुत खुश होकर मुझसे

अपनी चुदाई करवाने के लिए तुरंत हाँ कर दिया था। फिर उसने मुझे उसी शाम को करीब चार बजे बाहर मिलने के लिए कहा और मैंने बिना कुछ सोचे समझे तुरंत हाँ कर दिया और में उसके बताए सही समय और ठीक पते पर पहुंच गया और फिर मैंने

उसे फोन किया तो उसने मुझे एकदम कोने वाली टेबल पर आने को कहा और मैंने रोहित से मिलकर उससे हाथ मिलाया और फिर उसने मुझे सीमा से मिलवाया। फिर सीमा ने मुझसे नमस्कार किया और अब हम बातें करने लगे। दोस्तों आप मुझे माफ़

करना में आपको सीमा के फिगर के बारे में बताना भूल ही गया था, क्या मस्त फिगर था उसका 34-30-36 वो क्या हॉट सेक्सी लग रही थी, रोहित ने मुझे सीमा से बात करने को कहा और वो हमारे लिए कोल्ड ड्रिंक लाने को चला गया। फिर मैंने सीमा

से कहा कि आप तो दिखने में बहुत हॉट हो और आपको देखने से लगता नहीं है कि आपकी शादी को दो साल हो चुके है, शायद आप शादी के बाद और भी अच्छी लगने लगी हो। फिर सीमा ने मुझसे धन्यवाद बोला और उसने मुझसे कहा कि आप भी तो दिखने में

बहुत अच्छे लगते हो। फिर मैंने उससे पूछा कि यह सब कब से चल रहा है? तो उसने मुझसे बोला कि शादी होने के बाद से ही और फिर मैंने उससे पूछा कि आपको मेरा लंड कैसा लगा? तो उसने थोड़ा शरमाते हुए अपना मुहं नीचे करके कहा कि बहुत

अच्छा में उसे एक बार लेना चाहती हूँ। फिर मैंने उससे कहा कि जब कहो तब यह तुम्हारा हो सकता है मेरी जान और मैंने उसका एक हाथ पकड़ लिया, जिसकी वजह से उसके अंदर की आग को मैंने बढ़ा दिया था और वो मदहोश होने लगी थी, लेकिन तभी

रोहित हमारे लिए कोल्डड्रिंक लेकर आ गया और हमने एक साथ बैठकर इधर उधर की बातें हंसी मजाक करते हुए कोल्डड्रिंक खत्म की। उसके बाद रोहित ने मुझे अपने घर पर आने को कहा और वो मुझसे बोला कि कल जब में अपनी नौकरी पर चला

जाऊंगा, तब तुम मेरे घर पर आ जाना, क्योंकि मेरे जाने के बाद घर पर मेरी पत्नी एकदम अकेली रहगी, तुम्हें किसी भी बात की कोई परेशानी नहीं होगी और तुम दोनों का काम बहुत आसानी से हो जाएगा और फिर मैंने उसकी पूरी बात सुनकर

उससे हाँ कह दिया। फिर उसी रात को मेरे पास सीमा का फोन आ गया और मुझे कल उसके घर पर आने के लिए बोला और फिर उसने मुझसे कहा कि में आपका इंतजार करूंगी। दोस्तों ये कहानी आप सेक्सवासना डॉट कॉम पर पड़ रहे है। दोस्तों उसके

बाद मैंने बहुत देर तक सीमा के साथ फोन सेक्स किया, जिसकी वजह से वो एक बार अपनी चूत में ऊँगली करते हुए झड़ चुकी थी, सच पूछो तो सीमा ने यह सब पहली बार किया था और उसे ऐसा करने में बहुत मज़ा आया। कुछ घंटे बातें करने के बाद

हम दोनों सो गए और में हर दिन की अपेक्षा दूसरे दिन सुबह बहुत जल्दी उठ गया और उसके पति के नौकरी पर चले जाने के बाद में सीमा के फोन करने पर उसके घर पर चला गया। मैंने दरवाजे पर लगी घंटी को बजाया और सीमा ने तुरंत दरवाजा

खोल दिया, जैसे कि वो मेरा ही इंतजार कर रही थी और उसने मुझे अंदर आने को बोला। दोस्तों सीमा ने उस समय बड़े गले की मेक्सी पहनी हुई थी, जिसकी वजह से उसके बड़े बड़े बूब्स उससे बाहर झांक रहे थे, मेरी नजर उसकी छाती से हटने को

तैयार ही नहीं थी। फिर सीमा ने मेरा हाथ पकड़कर मुझे अंदर खींच लिया और तुरंत दरवाजा बंद किया। फिर मैंने अंदर आते ही झट से सीमा को अपनी बाहों में ले लिया और में उसे लगातार किस करने लगा। मैंने उसको बोला कि में तुमसे

बहुत प्यार करता हूँ। फिर सीमा ने भी मुझसे कहा कि हाँ में भी तुमसे बहुत प्यार करती हूँ, तुम बहुत अच्छे हो और फिर में सीमा को बीच वाले रूम में ही लिप किस करने लगा, सीमा भी अब मेरा पूरा पूरा साथ दे रही थी, उसने मेरी जीभ

को बहुत जमकर चूसा। करीब दस मिनट किस करने के बाद मैंने सीमा की मेक्सी को उतार दिया और देखा कि उस समय सीमा ने लाल कलर की ब्रा और पेंटी पहनी हुई थी, उसको में अपने सामने ब्रा, पेंटी में देखकर जोश में आकर एकदम पागल हो गया

और मैंने तुरंत उसकी ब्रा को खोल दिया और उसके आकार में बड़े बड़े बूब्स को चूसने लगा और एक बूब्स को पूरा दम लगाकर उसकी हल्की भूरी निप्पल को निचोड़ने लगा, जिसकी वजह से सीमा को बहुत मज़ा आ रहा था, वो भी अब जोश में आकर

सिसकियाँ लेने लगी थी और में सीमा के बूब्स को लगातार दबाने मसलने लगा था। फिर सीमा ने मेरे कपड़े भी उतार दिए और उसने मेरी अंडरवियर को भी उतार दिया और फिर वो मेरे लंड को मुहं में लेकर चूसने लगी थी, मुझे बहुत मज़ा आ रहा

था ऑश सीमा मेरी जान आहहह मज़ा आ गया, हाँ और थोड़ा और अंदर लो। फिर सीमा लंड को अपने गुलाबी गुलाबी होंठो पर घिसने लगी, मुझे बहुत मज़ा आने लगा था। फिर मैंने सीमा की पेंटी को भी उतार दिया और मैंने उसे सोफे पर बैठा दिया। अब

में उसकी गीली, कामुक, गुलाबी चूत को चाटने, चूसने लगा, वाह दोस्तों क्या चूत थी उसकी मुझे मज़ा ही आ गया, सीमा भी मेरा पूरा पूरा साथ दे रही थी, आह्ह्हह्ह्ह हाँ और ज़ोर से चूसो ओफफफ माँ मरी, तुम बहुत अच्छे हो हरीश उफ्फ्फ्फ़

और सीमा मुझसे बोल रही थी कि अब मुझे और मत तड़पाओ, प्लीज अब जल्दी से तुम मुझे चोद दो और मेरी आग को बुझा दो प्लीज, में अब और नहीं सह सकती प्लीज थोड़ा जल्दी करो। फिर मैंने अपना लंड सीमा की चूत के मुहं पर रख दिया और अपने

लंड का टोपा चूत के गुलाबी गुलाबी होंठो पर रगड़ने लगा और फिर मैंने सही मौका देखकर ज़ोर से एक धक्का दे दिया, जिसकी वजह से मेरा आधे से ज्यादा लंड सीमा की चूत में फिसलता हुआ अंदर चला गया, लेकिन सीमा को बहुत दर्द होने

लगा था, वो उस दर्द से एकदम से तड़प गई थी, उसने एक बहुत ज़ोर से चीख मारी। फिर मैंने तुरंत अपना एक हाथ सीमा के मुहं पर रख दिया और जब वो थोड़ा शांत हुई तो मैंने एक और जोरदार धक्का दे दिया, जिसकी वजह से मेरा पूरा लंड सीमा की

चूत में चला गया। फिर में अपना लंड अंदर बाहर करने लगा। करीब दस मिनट के बाद मैंने सीमा के मुहं से अपना हाथ हटा लिया और अब सीमा भी मेरा साथ देने लगी थी और वो अपनी गांड को उठाकर मुझसे चुदवाने लगी थी और अब वो मुझसे बोल

रही थी हाँ उफ्फ्फ्फ़ हरीश और ज़ोर से चोद अहहह्ह्ह ऑश मेरी जान तुम्हारा लंड है कि लोहे का सरिया है, वाह यह तो बहुत मज़ा दे रहा है, तुम्हारे लंड में ओफफ्फ़ अह्ह्ह बहुत दम है आह्ह्ह्हह्ह इसने तो मुझे आज मार ही डाला।

दोस्तों अब में ज़ोर ज़ोर से लगातार धक्के देकर उसे चोदने लगा था और मैंने महसूस किया कि करीब 40 मिनट की चुदाई में सीमा तीन बार अपनी चूत का पानी छोड़ चुकी थी, लेकिन मेरा लंड अभी भी नहीं झड़ रहा था। में अब भी पूरे जोश से

अपने काम में लगा हुआ था। फिर मैंने सीमा को घोड़ी बनाया और चोदने लगा था, सीमा पूरे जोश में चुदवा रही थी और बार बार बोल रही थी, हरीश उह्ह्हहह ओफफफ्फ़ मर डाल आज तो आहहह करीब एक घंटे के बाद मेरा झड़ चुका था। फिर मैंने

सीमा से उसकी गांड को मारने को कहा तो सीमा ने पहले मुझसे साफ मना कर दिया। उसने मुझसे कहा कि वहां पर बहुत दर्द होगा, उसने पहले कभी ऐसा कुछ नहीं किया है, लेकिन में बहुत समझाने और बार बार उससे कहने पर सीमा कुछ देर बाद

मान गई और मैंने सीमा को दोबारा घोड़ी बना दिया और अब में उसकी गांड को चाटने लगा, जिसकी वजह से सीमा को बहुत मज़ा आ रहा था, वाह दोस्तों क्या मस्त स्वाद था उसकी गांड का, में वो शब्दों में नहीं बता सकता। फिर मैंने अपना लंड

सीमा की गांड के मुहं पर रख दिया और एक ज़ोर से धक्का दे दिया, जिसकी वजह से मेरा लंड करीब दो इंच सीमा की गांड में चला गया, लेकिन सीमा उस दर्द की वजह से रोने लगी, चीखने लगी और वो एकदम तपड़ गई और वो अब मुझसे कहने लगी कि प्लीज

अब इस लंड को बाहर निकालो उह्ह्हह्ह आह्ह्हह्ह मुझे बहुत दर्द हो रहा है प्लीज थोड़ा मुझ पर रहम करो, ऊउईईईईईईइ माँ में मर गई, लेकिन दोस्तों मैंने उसकी एक भी बात नहीं सुनी और फिर मैंने एक धक्का और दे दिया, जिसकी वजह से

मेरा पूरा लंड चूत में डाल दिया और अब में अंदर बाहर करने लगा, सीमा बार बार मुझसे कह कर थी कि प्लीज़ अब तुम अपना लंड बाहर निकाल दो, मुझे बहुत दर्द हो रहा है, लेकिन कुछ समय बाद सीमा भी अब शांत होकर मेरा साथ देने लगी थी और

मुझसे चुदवाने लगी। वो मुझसे कहने लगी हरररी तुम बहुत अच्छे हो उहहह्ह् ओफफ्फ़ वाह मज़ा आ गया और ज़ोर से हाँ पूरा अंदर तक डालो ऊउईईईईईइ माँ मर गई। दोस्तों करीब 30 मिनट तक लगातार ताबड़तोड़ धक्के देकर चुदाई करने के बाद में

सीमा की गांड में झड़ गया और मैंने अपना पूरा वीर्य उसकी गांड में डाल दिया। फिर जब मेरा लंड छोटा हुआ तब में उसके ऊपर से थककर हटा और उसके पास में लेट गया। दोस्तों मैंने उस दिन कुछ देर रुककर कई बार चोदा और मैंने कभी

उसकी गांड, तो कभी उसकी चूत और कभी मुहं में अपना वीर्य डाल दिया, हम दोनों ने उस दिन चुदाई के बहुत मज़े लिए और अब भी में हर कभी सीमा को उसके घर पर जाकर चोद देता हूँ और वो मेरी चुदाई से हमेशा खुश और बहुत संतुष्ट नजर आती

है। दोस्तों सीमा को मैंने अब एक बेटा भी दे दिया है, जिसका नाम भी उसने हरीश रखा है, क्योंकि वो बच्चा उसको मेरी चुदाई की वजह से ही हुआ है और वो अब बहुत खुश रहती है ।।
दोस्तों आज की एक और नई सेक्स कहानी पड़ने के लिये यहाँ क्लिक करें।
Notice For Our Readers

दोस्तो डाउनलोड क्र्रे हमारा अफीशियल आंड्राय्ड अप (App) ओर अनद लीजिए सेक्स वासना कहानियो का . हमारी अप(App) क्म डेटा खाती है और जल्दी लोड होती है 2जी नेट मे वी ..अप(App) को आप अपने फोन मे ओपन रख सकते है

अप(App) का डिज़ाइन आपकी प्राइवसी देखते हुए ब्नाई गयइ है.. अप(App) का अपना खुद का पासवर्ड लॉक है जिसे आप अपने हिसाब से सेट कर सकते ह .जिसे दूसरा कोई ओर अप(App) न्ही ओपन क्र सकता है और ह्र्मारी अप(App) का नाम sxv शो होगा आफ्टर इनस्टॉल आपकी गॅलरी मे .

तो डाउनलोड करे Aur अपना पासवर्ड सेट क्रे aur एंजाय क्रे हॉट सेक्स कहानियो का ...
डाउनलोड करने क लिए यहा क्लिक क्रे --->> Download Now Sexvasna App

हमारी अप कोई व किसी भी तारह के नोटिफिकेशन आपके स्क्रीन पर सेंड न्ही करती .तो बिना सोचे डाउनलोड kre और अपने दोस्तो मे भी शायर करे

   Please For Vote This Story
1
0