Home
Category
Sex Tips
Hinglish Story
English Story
Contact Us

चूत के पीछे लेने के देने पड़ गये


दोस्तों ये कहानी आप सेक्सवासना डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

दोस्तों मेरा नाम गौरव है | मेरे पिता एक बिजनेस मेन है जिनकी मोबाइल शॉप की दुकान है मै अपने माता पिता का एकलोता लड़का हूँ मेरे कोई भाई बहन नहीं है ये कहानी जब शुरू हुई तब मेरी उम्र 20 साल थी मेरा रंग गोरा है हाइट पांच

फुट छे इंच शरीर सामान्य है 20 साल की उम्र में मै एक चिकना और मस्त लड़का हुआ करता था मै अपने घर से करीब 100 k .m . दूर शहर में पढने आया था और एक बॉयज होस्ट्रल में रहता था जैसा की होस्ट्रल का माहोल था लड़के सिगरेट पीना, शराब

पीना … ब्लू फिल्म देखना आदि सब करते थे जब कोई लड़की नहीं मिलती तो मार मर लेते थे इस दौरान साथ में सोने और साथ में ब्लू फिल्म देखने के कारण उनमे सम्लेंगिक सम्बन्ध भी बनजाते है इन सम्बन्धो के चलते लड़के लोग एक दूसरे

का लण्ड पकड़ कर मुठियाते है, एक दूसरे का लण्ड मुह में लेकर चूसते है यंहा तक की एक दूसरे की गांड भी मारते है मै भी इन सब चीजो से बच नहीं सका सबसे पहले रूम पाटनर फिर कॉलेज के दूसरे लड़को से मेरे सम्बन्ध बनते गए मै चिकना

और मध्यम कद था इसलिए सब मुझसे जयादा आकर्षित होते थे सीनियर लोगो को जब पता चला तो अक्क्सर मेरे रूम पर आते अपना लण्ड मुहसे चुसवाते और मेरी गांड मार् लेते मुझे भी गांड मारने से ज्यादा मजा गांड मराने में आता था धीरे

धीरे कॉलेज में मेरी इमेज एक बॉटम गे के रूप में हो गयी बहुत लोग इस बात को जानते थे बहुत सारे लड़के मेरी गांड मार् चुके थे और अपना लण्ड चुसवा चुके थे पर इसका ये मतलब नहीं है की मेरी लड़कियों में दिलचस्पी नहीं थी मेरी

इच्छा भी लड़कियों को चोदने की होती थी. पर इस इमेज के साथ कौन लड़की मुझसे सम्बन्ध रखती . एक दिन मै कॉलेज से घर लोट रहा था की मुझे एक सीनियर लड़की मिली उसने मुझे बुलाया और कहा की तुम घर जा रहे हो .. यस मेम …….. जाते जाते मेरे

मोबाइल में बैलेंस डलवा देना जी मेम मैंने जवाब दिया उसने 200 रूपए और अपना नंबर मुझे दे दिया दूसरे दिन जब मैंने उसे चेंज वापस किये तो बोली थैंक्स इसके बाद वो मुझसे छोटे मोटे काम करवाती कभी कोई बुक बुलवती या स्टेशनरी

खरीदने का काम देती मै जूनियर होने के नाते सब करता था धीरे धीरे वो मुझसे घुल मिल गयी वो मुझे कैंटीन में चाय भी पिलाती थी और नाश्ता भी कराती थी अक्कसर बोलती थी तुम बड़े सीधे हो … आप यह कहानी सेक्सवासना डॉट कॉम पर पढ़

रहे है | इस लड़की का नाम शीतल दिक्षित था ये गेहुंए रंग की ऊँची पूरी मजबूत कद काठी की लड़की थी इसके बोबे बड़े बड़े थे कमर पतली और कूल्हे चौड़े थे इसमें लड़कियों जैसे शर्माना या नजाकत नही थी. लड़के लोग मुझे शीतल का नौकर कह कर

चिड़ाते थे वो मुझे कुछ ज्यादा लिफ्ट देने लगी थी मेरे कंधे पर हाथ रख देती अकेले में मुझसे सट कर बैठती थी बाइक पर भी चिपक कर बैठती थी मै सोच रहा था की किस्मत तेज हो तो मुझ जैसे गे वाली इमेज के लड़के को भी गर्ल फ्रेंड मिल

सकती है | मै भी मोैका मिलने पर उससे सट जाता था उसके हाथ और शरीर के दूसरेहिस्सों को टच करता था उसने कभी विरोध नहीं किया मेरी हिम्मत बढ़ गयी थी मै मोैके की तलाश में था | एक दिन शीतल मुझे अपने घर ले गयी उसके पिता इस

दुनिया में नहीं थे उसकी मम्मी थी उन्होंने जब उसके साथ मुझे देखा तो उन्हें आश्चार्य हुआ फिर वो शीतल से बोली बेटा……… और कुछ परेशान हो गयी शीतल बोली मम्मी तुम परेशान मत हो ये तो बड़ा ही सीधा लड़का है और मेरा मेरा

जूनियर है आपको कभी शिकायत नहीं होगी ये बस मेरा दोस्त है मेरी मदद करता है बस ……. उस दिन के बाद मै उसके घर जाने लगा था उसकी मुम्मी मुझ पर विस्वास करने लगी थी | इधर शीतल और मेरे बीच में दूरिया काम होने लगी थी हम साथ में

मूवी भी देख लेते थे एक दूसरे को छूते थे बाइक पर वो अपनी चूजिया मेरी पीठ पर टिकाती थी एक दिन उसने मुझे किस भी कर लिया अब चिपका चिपकी और किसिंग होने लगी मै बहुत खुश था बस कभी कभी न कभी मै उसे चोदने में सफल हो जाउगा | एक

दिन वो दिन भी आ ही गया शीतल ने मुझे कहा आज हमरे दूर के मामा जी की डेथ हो गयी है इसलिए मम्मी वंहा गयी है , मै प्रैक्टिकल एग्जाम होने का बहाना बना कर रुक गयी वरना वो मुझे भी साथ ले जाती | आज तुम रात 8 के बाद मेरे घर आ जाना

तब वंहा पर कोई नहीं होगा मेरा दिल खुशी से पागल हो गया मै अब बड़ी बेसब्री से 8 बजने का इन्जार कर रह था मै ठीक टाइम पर पंहुच गया मुझे अंदर लेकर उसने दरवाजा बंद कर लिया मै उससे चिपक गया और किश किया वो बोली रुको तुमने खाना

खा लिया है की नहीं, मै कहा खा लिया है, तो वो बोली मैंने नहीं वो तुम भी मेरे साथ दो पराठे और खालो मै कहा ठीक है | उसके बाद उसने मेरा हाथ पकड़ा और बैडरूम में ले गयी हम दोनों के फेस पर वासना का बुखार था मैंने उसके होंटो पर

किस किया और लिपटा उसके बड़ी और हार्ड चूजिया दब गयी थोड़ी देर बाद मैंने शरीर अपर हाथ घुमला चालू कर दिया और उसका कुरता उत्तार दिया अब वो ब्रा और सलवार पर थी उसने मुझे भी कपडे उअतर्ने को कहा थोड़ी देर बाद मै सिर्फ

अंडरवियर पर हो गया मैंने उसके सलवार का नाड़ा खोला और निपका कर सलवार उसस्के जिस्म से अगल कर दी वो अंदर पेंटी नहीं पहनी थी बल्कि लड़को जैसा बड़ा अंडरवियर पहने थी जब मैंने उसे खींचा ……….. हे मेरे भगवान ………ये क्या मै क्या

देख रहा था उसका लड़को के जैसा अच्छा खासा लण्ड था ………..| मेरे मुह से निकला ओ ओ ओ ……. मै फटी फटी आँखों से उसे देखने लगा कुछ सेकण्ड दोनों कुछ नहीं बोले फिर वो बोली मै एबनार्मल सेक्सुअल कैरेक्ट्र्र रखती हूँ ये बात मेरी

मम्मी, जन्हा मेरा जन्म हुआ वंहा के डॉक्टर नर्स और कुछ ही लोग जानते है पर तुम मेरे साथ सेक्स कर सकते हो मझे मालूम है की तुम लड़को के साथ भी सेक्स कर सकते हो ……….अब मेरी समझ में आ रहा था की उसमे मुझे क्यों पसंद किया और

इसकी मम्मी मुझे इसके साथ देख कर कुछ परेशान और उदास हो गयी थी | आप यह कहानी सेक्सवासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे है | मै कुछ देर सोचता रहा फिर उसका लण्ड हाथ में लेकर देखा वो सामान्य था उस पर हलके हलके बाल भी आने लगे थे ……. उसने

भी मेरा अंडरवियर उत्तर कर मेरा लण्ड पकड़ लिया ……. मैंने तय कर लिया अब जो हो लेकिन मजा पूरा लिया जय मैंने ब्रा अलग कर उसके बोबे दबाना चालू किया मै जैसे जैसे उसके बोबे दबता उसका लण्ड टाइट होता जा रहा मैंने पकड़ कर देखा

बिलकुल लड़को जैसा था मैंने उसे मजा देने के लिया उसका ;लण्ड अपने मुह में ले लिया वो बोली ओह …..ओह ……ओह……या या…..या ……या ……… मैंने मुह हटा कर पूछा कैसा लगा बोली वाह …..वाह…… बहुत मजा आया प्लीज फिर से करो ….| मैंने उसका

लंड मुह में लेकर चूसना शुरू कर दिया उसे मजा आने लगा वो ऑफ़ ….. ऑफ़ .. ऑफ….. करने लगी . अब मैंने उसे अपना लंड चूसने को कहा वो तैयार हो गयी पर उससे मेरा लंड नहीं चूसा गया वो घिन के मारे उलटी निकालने लगी . मैंने कहा रहने दो

| इसके बाद मेरी इच्छा उसके चिकने लंड से गांड मराने की हो गयी | मैंने उसके लंड पर क्रीम लगा दी और अपनी गांड पर भी क्रीम लगा ली और घोडा बन कर गांड मराने को तैयार हो गया वो लंड लेकर मेरी गांड पर चढ़ गयी उसने धक्का मारा

लंड स्लिप हो गया तब मैंने उसे गांड मारना सिखाया उसके लंड के सुपाड़े को गांड के मुह पर जमा कर उसे लंड धीरे धीरे दबाने को कहा लंड घुसने लगा जब पूरा लंड घुस गया तो वो मेरी पीठ ठोक कर मुस्कुरा कर बोली थैंकू ……… अब वो मेरे

कहने पर धीरे धीरे धक्का लगा कर गांड मारने लगी मुझे भी मजा आने लगा मैंने अपना लंड उसे पकड़ा कर मुठ्याने को कहा वो गांड मराते हुए लंड हिलाने लगी अब मैंने उसे स्पीड बढ़ाने को कहा ..हफ …हफ …हफ …..कर रही थी उसका लंड बहुत कड़ा

हो गया था …….मुझे दर्द भी होने लगा …..मै उ उ …ऊ…ऊ……इ ई ई…ई….ई…ई….ई ….ई…….एई…एई….उई ..उई ..उई …….उई…… करने लगा कुछ सेकंड बाद उसने मेरी गांड में पानी छोड़ दिया मुझे रहत मिली दो तीन झटके मार कर उसका लंड शांत हो गया …… इस बीच

मेरा लंड भी मुठ खा कर कड़ा हो गया उसने शीतल के हाथ में पिचकारी छोड़ दी ……वो पसीने पसीने हो चुकी थी बोली थैंक्स अ लॉट मै ये कभी नही भूल सकती | हम दोनों अगल हो गए रात बहुत हो चुकी थी वो बोली तुम यही सो जा ओ…| वह मेरे साइन

पर सर रख कर एक पत्नी की तरह सो गयी …….| करीब चार बजे हम कोनो की नीं टूटी … वो मेरे लिया चाय बन कर लायी बोली …..हाय डिअर तुम कितने अच्छे हो ….. किश करने लगी एक बार फिर वासना भेदने लगी ……. थोड़ी देर बाद हम एक दूसरे का लंड पकड़

कर हिला रहे थे ….. वो चित लेट गयी और अपने अंडवे हटा कर बोली देखो मेरे पास चूत भी है मै इसे भी चुदवाना चाहती हूँ मै खुस हो गया उसकी बहुत चूत टाइट थी ….उसने लड़ घुसाना बहुत ही नुश्किल थे मैंने चूजिया दबाई उस्ली चूत क्रीम

लगा कर उंगली डाली तो चीख पड़ी ऑच ….हाय मार गयी ……. मैंने उसके सर पर हाथ रखा धीरे धीरे उंगली अंदर बहार की …… वो कुछ सहन्त हो गयी ……… आप यह कहानी सेक्सवासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे है | मै समझ गया ये आसानी से नहीं चुदेगी ….

मैंने लंड पर बहुत क्रीम लगाई ….. उसकी चूत पर भी क्रीम लगा दी फिर पलंग पर बैठ गया उसे मेरी गोदी में बिठाया फिर उसकी कमर पकड़ कर उसके चूतड़ ऊपर किये लंड को चूत के पर जमाया उसे लंड पर बैठने को कहा…… उसके भारी बजन से चूत में

लंड घुसने लगा वो दर्द से बिल्बलाने लगी लंड निकालने के लिए ऊपर उठाने लगी पर मैंने उसे कास कर पकड़ लिया और निचे दबाने लगा …..वो बोली नहीं ….नहीं आ …आ….नहीं .न न न न..न… ई .ई .ई ई ..ई..ई……….इ… पर मैंने उसे दबोचे रखा …….उसका लंड

हिलाया ….. बोब्बे दबाये ……. लगभग २ मिनट्स में वो सामान्य हो गयी ……अब उसे चोदना चालू किया …उसकी सील टूट गयी थी उसकी कसी चूत मारने में बहुत मजा आया …….. उसका लंड हिलाकर बोबेदबाये .तो मजे से मेरे लंड पर चूतड़ पकट पटक कर

चुदने लगी ……… हम ही हफ …हफ …हफ..हफ कर रहे थे ………हाय राजा मजा आगया …हाय राजा …….तुममे तो मेरी ………. हाय जोर से ………हाय थोड़ी देर बाद दोनों शांत हो गए इसके बाद तो उसे चुदाई का ऐसा चस्का लगा की वो हर वक्त बस मोैका ही तलाश

करती थी जब भी मोैका मिलता मुझसे लंड चुसवाती मेरी गांड मरती और अपनी चूत भीचुदाती …..हाँ अब वो मेरा लंड भी चूसने लगी थी ….. हम एक दूसरे के बिना नहीं रह सकते थे मुझे चूत और लंड दोनों की जरुरत थी उसे लंड और गांड दोनों

चाहिए थे हम एक दूसरे के पूरक थे | आप यह कहानी सेक्सवासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे है | बात आगे बढ़ाने पर हम दोनों ने शादी करने का फैसला कर लिया उसकी मम्मी उसकी मम्मी ने सहमति दे दी और मेरे घर वालो को तो हकीकत पता ही नहीं थी …..

मेरे जोर देने पर वो लोग भी मान गए हमारी शादी हो गयी ……| कान्हा तो मै लड़की को चोद्ने गया था और कान्हा मेरी शादी ऐसी लड़की से हो गयी जो अब जिंदगी भर मेरी गांड मारने वाली थी पड़ गए ने लेने के देने फ़िलहाल ये कहानी यही पर

ख़त्म कर रहा हूँ इसके आगे भी जिंदगी में बहुत कुछ हुआ इसके आगे की कहानी मै आपको किस्मत के खेल शीर्षक से सुनाउंगा |
दोस्तों आज की एक और नई सेक्स कहानी पड़ने के लिये यहाँ क्लिक करें।
Notice For Our Readers

दोस्तो डाउनलोड क्र्रे हमारा अफीशियल आंड्राय्ड अप (App) ओर अनद लीजिए सेक्स वासना कहानियो का . हमारी अप(App) क्म डेटा खाती है और जल्दी लोड होती है 2जी नेट मे वी ..अप(App) को आप अपने फोन मे ओपन रख सकते है

अप(App) का डिज़ाइन आपकी प्राइवसी देखते हुए ब्नाई गयइ है.. अप(App) का अपना खुद का पासवर्ड लॉक है जिसे आप अपने हिसाब से सेट कर सकते ह .जिसे दूसरा कोई ओर अप(App) न्ही ओपन क्र सकता है और ह्र्मारी अप(App) का नाम sxv शो होगा आफ्टर इनस्टॉल आपकी गॅलरी मे .

तो डाउनलोड करे Aur अपना पासवर्ड सेट क्रे aur एंजाय क्रे हॉट सेक्स कहानियो का ...
डाउनलोड करने क लिए यहा क्लिक क्रे --->> Download Now Sexvasna App

हमारी अप कोई व किसी भी तारह के नोटिफिकेशन आपके स्क्रीन पर सेंड न्ही करती .तो बिना सोचे डाउनलोड kre और अपने दोस्तो मे भी शायर करे

   Please For Vote This Story
6
4