Home
Category
Sex Tips
Hinglish Story
English Story
Contact Us

दोस्त की वाइफ को चोदा कार मे


दोस्तों ये कहानी आप सेक्सवासना डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

हेलो दोस्तो मे एक बार फिर आपके बीच एक नयी कहानी लेके आया हू सेक्सवासना डॉट कॉम पर यह कहानी तब की है , जब मैं फॅमिली ट्रिप पे दोस्तों के साथ हिल स्टेशन घूमने गया. मैं अपने दोस्त नवीन, उसकी बीवी सोनिया और अपनी बीवी

प्रिया के साथ महाबालेश्वर गया था, सोनिया जो की 26 साल की होगी, उसकी शादी नवीन से एक साल पहेले हुई थी.देखने बहुत गोरी, गुलाबी गाल, हाइट 5,6, कमर 24, बट्स 30 और बूब्स 34 के होंगे. मुझे बहुत ही मस्त लगती थी, उस पर से उसके डीप कट के

ब्लाउस, स्लीव्ले ब्लाउस, टाइट टेआशिरतस, हॉट पॅंट्स, मुझे उसकी टांगे, मुममे( चुचि) देखने को मजबूर करती रहती थी. उसे भी मर्दों का उसे घूर्णा पसंद आता था और वो भी फ्लर्ट करने मैं माहिर थी और मेरा दोस्त नवीन बहुत ही

सीधा, और सीरीयस किस्म का इंसान था. पूरी ट्रिप मैं बहुत ऐसे मोके आए, जब वो जान के झुक के, मुझे आगे या पीछे के दर्शन देती रहती थी. पर बीवी के साथ होने के वजह से मैं खुच ख़ास कर नहीं पता था. मेरा मन तो करता था की, उसका

ब्लाउस फाड़ के, उसके गुलाबी बूब्स को चूज़ चूज़ के लाल कर दूं और उसके गुलाबी होंठो के बीच मैं , अपना लंड डाल के चूस्ता हुआ देखूं. ऐसे 3 दिन की ट्रिप ख़तम हुई और फाइनली हम 4 बजे कार मैं बैठ के वापिस चल दिए. 3-4 घंटे ऐसे ही

मस्ती करते हुए निकल गये, 7 बजे अंधेरा होने लगा और हमने रास्ते मैं से 6-7 बियर की बोटेल उठा लीं. नवीन के अलववा सब बियर पीने लगे और 8 बजे खाना ख़ाके, गाड़ी मैं बैठ गये. ढाबे से लौटे वक़्त, सोनिया बोली की मुझे तो नींद आ रही

है , मैं तो सबसे पीछे जा रही हूँ सोन के लिए. उसने एक गुलाबी रंग की स्लीव्ले शर्ट पहेनी थी और साथ मैं काली रंग की स्कर्ट जो उसकी घुटनो से 4 इंचे अप्पर थी. मैं तो जैसे इससे मौके की तलाश मैं था, मैं बोलो की मुझे लॅपटॉप पे

खुच काम करना है और मैं भी पीछे जा के बैठ गया. अब हम एक दूसरे की और मुँह कर के बैठ गये, हम ने सीट उठा रखी थी, तो उसने अपनी गोरी टांगे, एक के उपर एक रखी और कमर लगा के बैठ गयी. मैने अपना लॅपटॉप खोलो, और कोशिश करने लगा , की

मैं काम कर रह हूँ. मैने एक लूस शॉर्ट और स्लीवलेशस टी शर्ट पहनी हुई थी, जिसमे से मेरी बॉडी भी एकद्ूम दिक रही थी. नवीन के सामने मैं एकद्ूम हॅंडसम बंदा था. अब आधे गॅंटे मैं ही सब सौ गये. गाड़ी मैं धीरे धीरे गाने चल रहे

थे, और सोनिया ने भी आँखे बंद कर ली थी. थोड़ी देर बाद मैने देखा की सोनिया की शर्ट का बीच का बटन खुला हुआ है और उसमे से उसके गोरी चुचियाँ, ब्लॅक ब्रा मैं बंद हैं, और उसने एक टाँग उठा ली है. बीच बीच मैं थोड़ी सी लाइट पड़ती

थी और मैं उसमे से उसकी टाँगों के बीच मैं देखने की कोशिशी कर रहा था. मैने अपना 8 इंच का लंड बाहर निकल लिया और उसके दूधिया बदन के दर्शन करते करते मूठ माआरने लगा. अब मैं आँखन बंद कर के धीरे धीरे अपने लंड सहला रहा था, की

तभी सोनिया ने अपनी टाँग उठाए और सीधे मेरे लंड के बाज़ , मेरी गोदी मैं रख दी. मैने घबरा के आँह खोली तो वो गहेरी नींद मैं लगी. उसके चेरे पे उड़ते हुए बाल बहुत सेक्सी लग रहे थे. मैं 5 मिनिट ऐसे ही बैठा रहा की मेरे शैतान

दिमाग़ अब डोड़ने लगा. मैं उसके दोनो पैर अपनी गोदी मैं रख लिए और धीरे धीरे उस्क्कि चिकने टाँग के बीच मैं , अपना गरम लंड लगा दिया .गाड़ी के झटकों के साथ साथ , उसकी चिकनी टांगे मेरे लंड को अप्पर नीचे करती थी और मैं उसे

बिना जगाए मज़े ले रहा था. उस्नी हल्की से करवट ली. मैने डार्क आकनहे बंद कर ली. सोने का नाटक करने लगा, कुछ देर तक उसने अपने टांगे हटा ली और शॉक से पीछे हो गयी. फिर थोड़ी देर बाद मैने हल्की से नज़र से देखा की, उसके एक हाथ

अबनी शर्ट मैं था और दूसरे से अपनी टांगे खोल के, अपनी पनटी मैं था. मैं साँझ गया की, वो मुझे सोता समझ कर के, गरम हो चुकी हैं. अब मैने अपना एक पेर नींद के आक्टिंग मैं उसनकी टाँग के अप्पर रख दिया. वो एकद्ूम चोंक गयी और उसने

अपना हाथ बाहर निकल लिए. अब मेरी टाँग उसकी चिकनी झांगो पे हल्के हल्के फिसल रहे थे. उस्नी मेरी टाँग अपनी झांगो से नहीं हटाई. अचंक गाड़ी ने मोड लिया और मेरे अँहगूता उसकी छूट पे जेया टीका. मेरी तो किस्मेट खुल गयी, अब

उसकी साँसे बाद रही थी, पहाड़ी रास्ते होने की वजह से, मेरे अंघूता उसकी छूट पे लेफ्ट रिघ्त , अप्पर नीचे हो रहा था, और वो आँख बंद कर के मज़े ले रही थी. मैने धीरे से आँख खोली और एक मोड़ पे, जैसे ही गाड़ी घूमी, मैं अपना

अंघूता मोड़ के उसकी पनटी के कोने मैं डाल दिया. वो अब भी नहीं हिली और थोड़ी देर मैं गाड़ी के झटकों से अब मेरा अंघूता उसकी चींकी छूट को टच करने लगा था, की उसे शायद प्यास लगी और, वो हल्की सी उठी, पानी की बोटेल उठाने के

लिए और जैसे ही बैठे, मेरा अँहगूता जो उसकी पानी के अंदर छूट के पास ही था, उसकी छूट के अंदर चला गया. उसके मुँह से आ निकल गयी. तो नवीन ने पूछा की क्या हुआ, उसपे उसने कहा खुच नहीं. अब मेरे अंघूता उसकी चींकी छूट के अंदर था,

और थोड़ी देर मैं उसकी छूट से क्रीम लीक होने लगी, अब उसकी छूट की क्रीम मेरे अंघूते से लग के मेरे पैर तका आ रही थी. अब मैं उसकी छूट को अंघूते से छोड़ने लगा धीरे धीरे, पेर वो मुझे अभी भी नींद मैं साँझ रही थी. अब मुझ से और

नहीं रुका जेया रहा था, मैं या तो उसकी छूट की क्रीम चाटना चटा था या, छोड़ना. पेर उसका पति, मेरी बीवी सब गाड़ी मैं थे, अब मैने अंघूता निकल और अपनी टांगे इस तरह मोदी की अब उसकी दोनो चींकी टांगे मेरे टाँग के अप्पर थी और

मेरे लंड अब उसकी छूट से 12-15 इंच डोर था. मेरा अंघूता बाहर निकल लेने से अब सोनिया के चेरे पे उदासी सी थी. अब मैं हर झटके के साथ, अपने से लंड उसकी छूट की दूरी कम करता जेया रहा था. तभी सोनिया खुद ही तोड़ा स उठ के मेरी तरफ आ

गयी, उसने सोचा की अब शायड अंघोटे की जगह वो मेरे लंड से अपनी छूट रगडवा ले के मज़े ले लेगी. पर उसे अभी कन्फर्म नहीं था की मई सौ रहा हूँ की जाग, पेर उतनी गरम हो चुकी थी की , शायद उसे अब बस अपनी प्यास मिटंकी थी. अब वो मेरे

खड़े लंड से अनपी छूट सता ली और गाड़ी के झटको के साथ, बाकी काम अपने आअप हो रहा था. अब वो अपने बूब्स बाहर निकल के खुद ही दबा रही थी, की मैने अब एक झटके मैं, अपना लंड शॉर्ट्स से निकल दिया, अंधेरे मेरे लंड तो नहीं उसकी गोरी

छूट तो दिख ही रही थी, उसे पे हल्की हल्की क्रीम दिख रही थी, को उसकी छूट से निकलाई होगी. अब वो समझ गयी की मैं नींद वींड मैं नहीं हूँ, वो अपनी टाँग उठाने की कोशिश करने लगी. वो शर्मा के धीरे से बोली, ई आम सॉरी, ई आम सॉरी,

प्लीज़ लीव मे लेग्स. मुझे लगा था की आप सौ रहे हो, प्लीज़ मेरी टाँग छोड़ दो और ये कह के वो मेरी टॅंगो के बीच से बार बार उठने की कॉसिश करने लगी, पेर मैं उसे दोनो जानहगों से पकड़ रखा था, और लंड उसकी छूट पे, पनटी के अप्पर

से रग़ाद खा रहा था, वो 5 मिनिट तक कोशिश कर रही थी. 5 मिनिट तक उसकी छूट मेरे गरम लंड को बार बार छूटी रही. जो सेक्सी लड़की अभी तक अपने छूट की प्यसस मैं मस्त थी, अब अचानक वो ही मुझे से ना छोड़ने की रिक्वेस्ट कर रही थी, वो

फिर धीरे से बोली की, ये ग़लत है मैं तुम्हारे दोस्त की बीवी हूँ. मैने उसके दोनो हाथ पकड़ रखे थे और उसकी जाँघो पे दबाए रखे. वो एक मछली की तरह छटपटा रही थी. मैने तोड़ा और नीचे सरका और उसकी छूट पे अपने लंड और चुबा दिया,

लंड पनटी के अप्पर से उसकी छूट के मुँह पे टिक गया. तभी मैने अपनी पकड़ हल्की से ढीली की, उसे लगा मैं शयड उसे चोर दूँगा, की तबीह , नवीन ने उसका नाम लिया की सोनिया छाई पीने है क्या. वो उसका जवाब देनी वाली ही थी की, मैने

अपने हाथ से उसकी पनटी खींच ली, और एक झटका आया और वो मेरे लंड के अप्पर और मेरा 8 इंच का लंड, उसकी क्रीम भारी गुलाबी गरम और टाइट छूट मैं , आधा घुस गया. वो बोली नही नवीन ने समझा की वो उसको बोल रही है और ओक बोल के गाड़ी चलता

रहा. अब गाड़ी मैं एसी ओं था पेर हमारे जिंसों की गर्मी से हवा मैं सिर्फ़ सेक्स ही सेक्स फैला हुआ था. अब मेरा मोटा लंड उसकी छूट को खोल के तडपा रहा था. उसकी छूट बहुत टाइट थी. गरम तो इतनी थी की बस बहुत ही गरम. शायद नवीन का

लंड चोट सा होगा. अब मेरा लंड एक साल पहले शादी हुई सोनिया की छूट मैं फसा हुआ था. अब मैने उसकी टाँगो को अपने दोनो हाथों से जाकड़ लिया, और खराब राअस्ते का इंतेज़ार करने लगा, जिस से की, बिना किसी दिक्कत के , मेरा लंड

उसकी छूट मैं जाने लगे.दोस्तों ये कहानी आप सेक्सवासना डॉट कॉम पर पड़ रहे है। और वो उतना छा रही थी अब उसकी चूओत उसे दॉखा दे रही थी, धीरे धीरे सोनिया की आँखें मज़े से बंद हो रही थी. वो पूरी कोशी कर रही थी अपने दोनो

हाथों से की मेरा लंड उसकी छूट मैं और ना जाए , पेर उधर उसकी छूट से क्रीम बदती जेया रही थी. मुझे संज़ह आ रहा था की, 5-10 मीनुए मैं उसपे काबो पा लूँगा. उसकी छूट मैं से अब क्रीम बह के मेरी बॉल्स को नहला रही थी. मुझे भी पता था

की, वो कितने देर तक अपने हाथों से ज़ोर लगा के, मेरे लंड को रोक पाएगी, अब वो थोड़ी थोड़ी थकने लगी थी, उसे संज़ह एयेए गया था की मैं उसे बिना छोड़े नहीं जाने दूँगा. अब उसकी टांगे और छूट दोनो पस्सेनए और छूट की क्रीम मैं

मिक्स चुकी थी, मैने योगेस्क को बोलो की म्यूज़िक की वॉल्यूम थोड़ी इनक्रीस कर दे, कहीं मेरी बीवी, चिप चिप की साउंड से उठा ना जाए. मैने धीरे सोनिया से बोलो, देखो जब मैं सौ रहा था तो तुमने ही मेरे लंड, अंघूते से खेल खेल

के मेरी आगा लगाई हैं, अब आधा काम हो ही चक्का है तो पूरा भी करने दो, मैं किसी को नहीं बोलूँगा. वो कन्फ्यूज़ सी मेरी तरफ देखने लगी, की गाड़ी मैं एक ज़ोर का जाहतका लगा और वो उछाल की मेरी तरफ गिर पड़ी, मैने उसे गिरने से

बचाने के लिए अपने दोनो हाथ खोल दिए, अब उसके आपल साइज़ मेरे मुँह पे, मेरा दोनो हाथ उसकी कमर मैं और , मेरा 8 इंच का लंड उसकी छूट मैं. उसकी छूट मैं पहली बार इतना बड़ा लंड घुसा था, वो अचानक झटके लेने लगी और उसकी छूट मैं से

और ग्राम क्रीम बाहर आने लगी. मेरे चेरे पे जीत की झलक और उसकी चेरे पे हार का गुसा सॉफ नज़र आ रहा था, अब मैं उसके दोनो हाथ पकड़े और उसके आपल साइज़ निपल्स को चूसना चालू कर दिया, घुमा घुमा के मैं उसकी चूची को मुँह के अंदर

बाहर करने लगा, उसके एक चुचि चूसने के बाद, मैं दूसरी चूस्टा , और फिर पहलेई. उसकी चुचि मैं अजीब सा नशा था और मस्त स्वाद था. फिर दोनो निपल्स को मैने एक साथ मुंग मैं भर्लिया, वो पीछे खीचने लगी और मैं कस के पकड़

लिया. उसके रसीले बूब्स , मैं पूरी रात चूस सकता हूँ. उसके निपल अंगूर की तरह खड़े थे और मैं उनपे जीभ घुमा घुमा के और चूज़ रहा था. वो नशे से पागल हो रही थी. अब धीरे धीरे, उसके हाथ मेरी कमर पे चलने लगे. और वो खुद ही अपनी

छूट से मेरा लंड मसालने लगी.उसने सोचा की ये चुदाई बंद करने का शायद ये ही एक तरीक़ा है, और ज़ोर ज़ोर से अपनी छूट को मेरे लंड पे रगड़ने लगी, जो एक बार छूट को आयेज रगड़ती, चिप की आवाज़ आती, फिर वो पीएचए करती तो, खुद ही आयेज

आजाती. उसकी छूट इतनी गरम, चिकनी थी , उसपे से वो खुद मेरा लंड अंदर पकड़ के दबा रही थी. पेर मेरे बजाई खुद उसकी चूओत टाइट होने लगी और उसने दोनो हाथ के नखहों मेरी कमर मैं गाड़ दिए. मैने उसकी आवाज़ बंद करने के लिए , उसके

दोनो होतों को पाने होतों से चुने लगा, वो अब मेरे लंड पे गरम गरम क्रीम बहाने लगी और झड़ने लगी और मेरी दोनो झंगो पे उसकी छूट से क्रीम बहएने लगी. पेर मेरा लंड तो अभी उसकी छूट मैं समाया हुआ था, अब वो बोली अब तो चोर दो

प्ल्स, मैने कहा की मेरा काम तो हुआ ही नहीं. वो गुस्से से मेरी देखने लगी, और उठने लगी. मेरे हाथ पस्सेनो को वजह से अब चींकी झंगों का पकड़ नही पा रहे थे, की एक और गाड़ी का मोड़ आया और, वो मेरे खड़े लंड पे फिर से गिर

गयी. पेर मुझे तभी आहेसास हुआ की, उसकी चूओत इतनी गरम और टाइट कैसे हो गयी, सोनिया की आँखे बड़ी हो गयी और उसने अपने मुँह अपने हाथ से दबा लिया. उसकी छूट की क्रीम इतनी लगी हुई थी मेरे लंड पे की मेरा लंड उसस्की गांद मैं

घुस्स्स गया वो अपने हाथों से मुझे मरने लगी, पेर मैं दोनो कंधों से उसे दबा लिया. एक ही दिन मैं सोनिया की चूओत और गांद, वा. अब वो अपन सिर लेफ्ट रिघ्त कर रही थी और मेरा लंड एक एक इंच कर के उसकी गांद मैं जेया रहा था. अब

मैने हल्का हल्का उसे छोड़ना चालू कर दिया, वो हर झटके मैं उः उः उहह उम्म्म आअहह आअहह उम्म्म्ममम करने को मजबूर थी, अचंक वो फिर एक बाअर अपने नाख़ून मेरे कंधों मैं गाड़ने लगी, मुखे लग गया की ये सेयेल फिर से झड़ने वाली

है. मुझे लगा उसके शोर से मेरी बीवी ना जाग जाए इससलिए, मैं बोलो की ठीक हैं अब नहीं छोड़ता. फिर कभी छोड़ूँगा तुम्ही ठीक से. उसे यकीन नहीं हुआ की मैं इतनी आसानी से कैसे माँग गया. वो तक चुकी थी, उसस्के गोरी चुहचियाँ

पस्सेनए से और भी सनडर लग रही थी. वो मेरे अप्पर उठी, पेर उसकी छूट की क्रीम से, सारा चिप चिप हुआ था, मैने उसके बोला की उस कोने मैं कपड़ा रखा है, उठा लो और सॉफ कर लो. वो उठे के उस तरफ मूडी, मुझे उसने नंगे चूटर और गांद दिखी

और मैं झट से उसके उपेर चाड गया, वो मेरे झटके से संभाल नयी पाई ऑरा आगे ही गिर पड़ी. मेरा लंड जो उसकी गांद मैं घुसा ही था की फिर बाहर निकल गया, मैं उसके उपर ही लेट गया और उसके दोनो हाथ मोड़ के पीछे कर के, फिर से उसकी

चूटरों के बीच मैं लगा के दबाने लगा. क्रीम इतनी निकल चुकी थी की, एक मिनिट मैं ही लंड ने उसकी गांद का रास्ता ढूंड लिया और, मैं अंदर घुसना चालू कर दिया. अब उसकी गुअलबी गांद को खोल के मेरा लंड एक इंच अंदर गया, वो बोली

आहह फिर दूसरा इंच, अहह प्लस्सस्स अहह फिर मैने लंड बाहर निकाला, उसे लगा की मेरा निकल गया और वो रिलॅक्स हुई दोस्तों ये कहानी आप सेक्सवासना डॉट कॉम पर पड़ रहे है।, की मैं उसकी रिलॅक्स गांद मैं इस बाअर ,पूरा 8 इंच अंदर

डाअल दियाअ. अब वो मुझे अपने चूटरों से मुझे ढाका देने लगी. मुझे साँझ नही आया, वो क्या छठी है. वो अपने पेर पताकने लगी पेर, अब तो मैं उसके अप्पर बैठा था , और लंड उसकी गोरी गोरी गुलाबी गांद को चोने लगा. उसका गोरी कमर,

गोरे गोरे चूटर, उनक बीच मैं सेक्सी लंड, उसकी छूट की क्रीम मैं नहा के, उसकी गांद को पटक आपाटक के छोड़ना लगा . वो बार बार हटाने की कोशी करता और मैं उसकी कमर पकड़ के , एक और धक्का मार देता. वो फिर हिम्मत कर के लेफ्ट होती

और मैं फिर उसके गांद के अंदरररर तक लंड दल देता. आब्टो शायद उससे भी गांद मरवाने मैं मज़ा आअनए लगा था, वो दूसरी अंगली सी अपनी छूट मसालने लगी. अब मैं इतना दूं लगा लगा के थकने लगा था. मैने अब उसके बाल पकड़े पीछे से, और

कन मैं बोला, की तुंझ जितना कूदोगी, तुम्हे ही लगेगी. अब वो नगनगी जववन बदन, पस्सेनो से भीगे चूटरों को खोल के चुप लेट गयी. और अब मैने उससे की रस्सेले चूटरों को पकड़ के उसकी छोटे से गुअलबी छेड़ को छोड़ना चालू

किया. उसकी गांद गुलाबी से चुड चुड के लाल लाल होने लगी थी. ऐसे करके मैं उसे 10-15 मिनिट और चूड़ा और फिर उसकी गांद मैं ही, सारा गरम गरम धार चॉर्ने लगा, इतना निकला की उसकी गांद मैं से क्रीम बाहर आने लगी पेर मेरे लंड से

क्रीम निकनलि बंद नहीं हुई. अब मैं उसके अप्पर उठा और , अपना लंड उसीकि पनटी से सॉफ किया. उसने अपने कपड़े ठीक किए ऑरा ब नवीन को गाड़ी रोकने को बोला. ऊश्ने गाड़ी रोकी और खुद ही दरवाजा खोलने आगेया. सोनिया बेचारी अभी

मेरे माल को निकल भी नयी पाई थी. वो ऐसे ही उठी और मेरा माल अपनी गांद मैं भर के ही आयेज जेया के बैठ गयी, अगले टीन गहन्टों तक उसकी छूट और गांद से क्रीम निकलती रही होगी. मैने एक सिगर्ते जलाई और सौ गया, आँख खूली थी तो हम

अपने घर के गेट पे थे.दोस्तों ये कहानी आप सेक्सवासना डॉट कॉम पर पड़ रहे है। हुँने उन दोनो को बाइ किया और अपने घर चले गये. अंदर जाते ही मुझे सोनिया की चुदाई याद आने लगी. मेरी बीवी कपड़े चेंज करने के लिए कपड़े उतार रही

थी, मैने उसे बहिन मैं उठत्या और बिस्तेर पे पटक के छोड़ना चालू कर दिया और उसे चूड़ के जब मैं उठा तो मेरी बीवी बोली की सोनिया को छोड़ के लगता हैं तुम्हारा मान नहीं भरा. मैने कहा नहीं तो , कुछ भी नहीं हुआ. वो बोली अच्छा

तुमहरे चुदाई की शोर से मेरी आँख तो कब की खुल गयी थी पर मैं सोचा की ऐसे हालत मैं अगर मैने तुम दोनो को रोक लिया , तो बेचारे नवीन पे क्या बीटिगी. ईशीलिये चुप रहा. पर नेक्स्ट टाइम तुम्हे सोनिया को छोड़ना तो घर बुला के

छोड़ना. अब दोनो मिल उसके साथ उस के मज़े लूटेंगे.
दोस्तों आज की एक और नई सेक्स कहानी पड़ने के लिये यहाँ क्लिक करें।
Notice For Our Readers

दोस्तो डाउनलोड क्र्रे हमारा अफीशियल आंड्राय्ड अप (App) ओर अनद लीजिए सेक्स वासना कहानियो का . हमारी अप(App) क्म डेटा खाती है और जल्दी लोड होती है 2जी नेट मे वी ..अप(App) को आप अपने फोन मे ओपन रख सकते है

अप(App) का डिज़ाइन आपकी प्राइवसी देखते हुए ब्नाई गयइ है.. अप(App) का अपना खुद का पासवर्ड लॉक है जिसे आप अपने हिसाब से सेट कर सकते ह .जिसे दूसरा कोई ओर अप(App) न्ही ओपन क्र सकता है और ह्र्मारी अप(App) का नाम sxv शो होगा आफ्टर इनस्टॉल आपकी गॅलरी मे .

तो डाउनलोड करे Aur अपना पासवर्ड सेट क्रे aur एंजाय क्रे हॉट सेक्स कहानियो का ...
डाउनलोड करने क लिए यहा क्लिक क्रे --->> Download Now Sexvasna App

हमारी अप कोई व किसी भी तारह के नोटिफिकेशन आपके स्क्रीन पर सेंड न्ही करती .तो बिना सोचे डाउनलोड kre और अपने दोस्तो मे भी शायर करे

   Please For Vote This Story
15
5