देवेर के मोटे लॅंड का मजा


Author :मीना Update On: 2016-11-18 Views: 10681

मरी कहानी पढने वाले सभी दोसतो को मेरा नमसकार । सेक्सवासना की कहानी पढने के बाद मुजे भी लगा की मुजे अपने जीदगी के हसीन पल को सब के साथ बाटना चाहीये ईस लीऐ आज मे आपके सामने अपनी चुदाई की कहानी लेकर अाई हु। दोसतो

सबसे पहले मे आपको मेरे बारे मे बता देती हु। मेरा नाम मीना हे और मेरी उमर 26 साल हे। मेरा रग गोरा हे और मेरी साईज 32-28-30 हे। मरी सादी 22 साल की उमर मे हो गई थी। मेरे ससुराल मे मरे पति और उनके माता-पिता हे। और उनका ऐक भाई था

जीका नाम रवी था।वो कोलेज की पढाई के लीऐ होसटेल मे रहता था। सादी के बाद मे मेरे पती के साथ मुबई आ गई। तब मेरा देवर पढाई के लीऐ होसटेल मे रहता था। पर सादी के दो साल बाद उसकी पढाई पुरी हो ने के कारन वो भी मुबई हमारे

साथ रहने के लीऐ अा गया। मुबई मे जायादा दोसत न होने के कारन वो जादा तर से धर पर ही रहता था और अपने लेपटोप ने नये नये मुवी दोल कर देखता रहेता था और जब मे फीरी होती तो मेरे साथ बातचीत करने बेथ जाता। मेरे पति के पास

टाईम नही होता था ईस वजसे मेने कीतने समय से नई मुवी भी नही देखी थी। मेरी रवी के साथ अची दोसती होने के कारन मे काम खतम करने बाद उसका लेपटाप ले कर अपने रुम मे जा कर मुवी देखती थी। ऐक दो दीन के बाद वो मुजे रोज दुपेर को

सामने से लेपटोप देता था मुवी देख ने के लाऐ और मे ले कर मुवी देख कर उसे लोटा देती थी। ऐक दीन मेने लेपटोप मे दुसरे फोलडर खोल कर देख रही थी तो ऐक फोलडर मे मुजे कुच वीडीयो फाईल दीखी तो मेने खोल कर देखा तो मे हेरान हो

गई। जेसे मेने वीडीयो खोला तो देखा की ऐक लडकी कपडे उतार कर चुत मे उगली कर रही थी। पहले ये देख कर मेने वीडीयो बद कर दीया फीर अपने रुम के दरवाजे की कडी देखी की बरा बर हे या नही। फीर मेने फीर वीडीयो लगाया और देख ने

लगी। थोडी देर बाद मे गरम होने लगी और मेने हाथ से अपनी चुतको रगड ने लगा। थोडी देर रगड ने के बाद मेने अपनी लेगीस और पेनटी नीकाल कर चुत को मसलने लगी। और फीर चुतमे उगली दाल कर मजे लेने लगी। वेसे भी चुदाई को तीन दीन हो

गये थे ईस लीऐ उस दीन वीडीयो देखने के बाद मुजे उगली करने का बहुत मन होने लगा था। थोडी देर बाद मेरी चुत मेसे पानी नीकल गया और मे बाथरुम मे जाके साफ हो कर आराम करने लगी। उस दीन मुजे ये पता नही था की मेरे देवर रवी ने

मेरे रुम मे सीसी टीवी केमेरा लगाया था। और उसने मेरी सारी हरकत बाद मे देखली थी। ईस तरहा रोज मे दुपेर को वीडीयो देख कर उगली करती और वो सीसी टीवी केमेरा से वो सब कुस देख लेता था। वो रात की वी़डीयो भी देख लेता था जब

मेरे पती मेरी चुदाई करते थे। दो हफते ऐसेही नीकल गये। फीर मेरे सास-ससुर को कीसी काम के वजसे गाव जाना पडा तो सुबह की गाडी से उमको गाव भेज दीया। फीर सब काम खतम करने के बाद मे अपने कमरे ने जाकर लेपटोप खोल कर देख ने

लगी। उस दीन मुजे उस मे ऐक दुसरा फोलडर दीखा। जीसे खोल कर मेने देखा तो मुजे ऐक लबे और मोटे लड की फो़टो और वीडीयो दीखे। वो देख कर मे थोडी हेरान हो गई थी। उसने अपने लड को तेल से मालीस कर रहा था ऐसे वीडीयो बना कर फोलडर मे

रख दीये थे। उस लड को देख कर मुजे तभी चुदाई करने का मन होने लगा। पर वो मेरा देवर था। ईस लीऐ मेने चोचा ये सब गलत होगा ईस बजसे मेने उसे कुस नही कहा और उसको लेपटोप दे कर चली आई। फीर शाम को मे मारकेट गई तब रवी को उनके भाई

का फोन आया की आज काम के कारन वो धर नही आ पायेगे। ये सुन कर वो मुजे चोद ने के पलान बनाने लगा और उसने उसके रुम का और होल का पखा बीगाड दीया जीसे उसे मेरे साथ सोने का मोक मील जाये। फीर जब मे मारकेट से वापस आई तो उसने

मुजे बतायो की आज भाई नही आने वाले। ईस लीये मेने हम दोनो के लीये खाना बनाया और फीर खाना खाने के बाद वो अपने रुम मे सोने के लीऐ जाने लगा। थोडी देर बाद वो मेरे पास अाके कहा की रुम का पखा बीगड गया हे तो मे उसके रुम मे जा

के देखा। गमी का मोसम होने के कारन पखे के बीना सोना मुशकेल था ईस लीऐ थोडी देर चोसने के बाद मेने रवी से कहा की वो मेरे रुम मे जाके सो जाये और मे होल मे सो जाती हु। ये सुन कर वो थोडा उदास हो गया पर फीर रुम मे जाके सोने

लगा। थोडी देर मेने होल मे टीवी देखी फीर सामने पडे लेपटाप पर पडी। मे ये नही जानती थी की वो लेपटोप रवी ने मेरे लीये रखा था ताकी मुजे उगली करने का मन हो। फीर मे टीवी बद कर के रवी को देखने गई की वो सोगया हे कू नही। फीर

बहार आकर मेने अपना लेपटोप खोल कर वीडीयो देखने लगी। फीर मेने लेगीस के अदर हाथ दाल कर चुतको मसलने लगी। फीर लेगीस उतार कर मे बडी बे फीकर हो कर आखे बद कर के चुतको मसल रही थी तभी रवी की आवाज आई की" भाभी ये कया कर रही

हो..? ये देख कर मे गभरा गई और अपने अापको चुपाने लगी। रवी मेरे पास आकर लेपटोप को साईड मे कीया और मेरे पास आ कर कहने लगा की " भाभी अगर ईतना ही मन हो रहा था तो मुजे बुला लेती ऐसे वीडीयो देख कर कयो मजा मीलेगा" फीर वो मुज पर

जपट गया और मुजे बाहो मे ले कर मुजे कीस करने लगा। पहले मे मना करने लगी की " रवी ये सब कुस गलत हे तुमारे भाई को ये सब पता चलेगा तो बहुत बुरा होगा"। दोस्तों ये कहानी आप सेक्सवासना डॉट कॉम पर पड़ रहे है। रवी ने कहा की " अभी

हम दोनो के आलावा याहा पे कोय नही हे और कीसी को भी ईसके बारे मे पता नही चलेगा"। ये सुन कर मे थोडी शात हुई और मेने उसे अपने से दुर करना बद कीया। वेसे भी मे पहले से गरम हो चुकी थी और रवी की कीस के वजसे और गरम हो रही

थी। थोडी देर बाद रवी अपने होथ मेरे होथ पर रख दीये और कीस करने लगा। मे भी उसका साथ देने लगी थी। थोडी देर बाद उसने ऐक हाथ को मेरे जोधो पर रख कर सहलाने लगा। और कीस करने लगा। अब मे पुरी तरहा गरम हो चुकी थी और अब तो मे

रवी के साथ चुदाई के लीऐ भी तैयार हो गई थी। फीर वो मेरे गले पर कीस करने लगा और मेरे बोल को जोर जोर से दबाने लगा। थोडी देर होल मे मजे लेने के बाद हम दोनो गरमी के वजसे पसीना होने लगा ईस लीऐ हम दोनो रुम मे गये । फीर उसने

मेरे सारे कपडे नीकाल दीये अब मे उसके सामने पुरी तरहा नगी हो गई थी। अब हम दोनो ऐक दुसरे के साथ खुल गये थे। अब उसने बेड पर लेटा कर मेरी चुत को अपने हाथो से रगड ने लगा और साथ मे चुमने लगा। मे अपनी चुत को रोज साफ रखती हु

ईस लीऐ मेरी चुत पर ऐक बाल नही था ये देख कर रवी बहुत खुश हुवा और उसने मेरी चुत को अपने मुहमे ले कर चाटने लगा। थोडी देर बाद उसने अपनी रफतार बढाई और मेरे मुहमे से अावाज नीकल ने लगा। अअअअअअ आआआआआईईईई...... थोडी देर बाद

मे जड गई और सारा माल रवी के मुह मे दाल दीया। वो सब पानी पी गया। अब मेने उसे बेड पर लीटा दीया और उसकी अडवीयेर नीकाल कर उस के लड को हाथ ले कर मसलने लगी। उस का लड पहले से गीला हो चुका था। फीर मेने उसके लड को अपनी जीब से

चाटना चालु कीया। अब मेने उसके लड को मुह मे ले कर जोर जोर से अदर बहार करने लगी। रवी का ये पहली बार था ईस लीये उस ने अपना पानी जलदी चोड दीया और सारा पानी मेने अपने मुह मे ले लीया। पहली बार मे उस के लड मेसे ईतना पानी

नीकला की मेरा पुरा मुह भर गया और बहार नीकल ने लगा। अब मेने अपने मुह को साफ कीया फीर उस के बाहो मे चली गई। अब वो मुजे बाहो मे ले कर कास करने लगा और मेरे दोनो बोल को पकड कर जोर जोर से मसल ने लगा। तब मुजे दद भी हो रहा था

और मजा भी अा रहा था। थोडी देर मे मेरे दुध जेसे दोनो बोल को टमाटर जेसा लाल करदीया उसने। अब मेरा चुत की आग बढने लगी तो मेने रवी से कहा की " जान अब ये तुमारा लबे मोटे लड को मेरी चुत मे दाल दो" उस का लड भी चुदाई के लीऐ

तैयार हो गया था। फीर उसने मुजे बेड पर लीटा कर मेने दोनो पेरो को खोल दीया और फीर लड पर कोनडोम लगा कर मेरी चुत पर लड को रख कर अदर दालने लगा। उसने मेरी चुत मे जोर से लड को दाला तो मेरी मुह मे से जोर से चीख नीकल गई। मेने

कहा "जान धीरे करो आराम से करो ये चुत अब तुमारी हे"। फीर उसने धीरे धीरे अपनी रफतार बढाई। उस वकत मेरे मुह मे से जोर जोर से अावाज नीकल ने लगी। आआईईईईअअअइउउउउउउउ....... रवी के लड से चुदने मे दद भी हो रहा था और मजा भी आ रहा

था। थोडी देर चुदाई के बाद वो मुज पर आ गया और मुजे कीस करने लगा और मेरी चुत की चुदाई करने लगा। फीर उसने अपना पानी सोड दीया और मुज पर आ गया। अब मेने उसे अपने उपर से हटा कर उसके उपर आ गई। फीर थोडी देर कीस करने के बाद

मेेने उसके लड पर से कोनडोम नीकाल कर लड को चुमने लगे। फीर थोडी देर मुह मे ले कर चुदाई के लीऐ तैयार कीया। मेने अब उसके लड पर कोनडोम लगाया फीर उसके लड पर बेथ गई और उसल ने लगी। थोडी देर उसल ने के बाद मे उस पर लेट गई और

उस को कीस करने लगी। और अपनी गा़ड को उचाल ने लगी। करीब 15 मीनीट की चुदाई के बाद हम दोनो साथ मे जड गये। और ऐक दुसरे की बाहो मे आ गये। थोडी देर बाद साफ हो कर हम दोनो सो गये। सुबह मे जलदी उठकर नासता बना रही थी तब रवी

मेरे पास आया और कीचेन मे ही मेरी गाड मार कर मेरी गाड के मजे लीये। तो दोसतो आपने देखा की कीस तरहा मेरे देवर रवी ने बडी हुशयारी मेरी चुदाई की। उस के बाद उसने ऐक साल तक मेरी चुदाई की पर अब मेरे पती की नोकरी दुसरे शहेर

मे लगी हे। ईस वहजसे मे अपने देवर से दुर हो गई। दोस्तों ये कहानी आप सेक्सवासना डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मुजे तो अपने पति का लड मील जाता हे पर मेरा देवर बीचारा अकेला हो गया हे। अगर कोय मेरी जेसी भाभी या लडकी उस से

चुदवाना चाहती हो तो मुजे मेल करे। मेरा मेल आ़डी meenasureja353535@gmail.com और दोसतो मेरी और मेरे देवर की चुदाई आपको केसी लगी बताना मत भुलना।

Give Ur Reviews Here