Home
Category
Sex Tips
Hinglish Story
English Story
Contact Us

चालक कुत्ति तीन बार ज्यदा चुद्ति है


दोस्तों ये कहानी आप सेक्सवासना डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम पूजा है और में पंजाब की रहने वाली हूँ। मेरे घर में मेरे मम्मी, पापा और बड़ा भाई है। मेरे मम्मी पापा दोनों ही नौकरी करते है और में घर में सबसे छोटी हूँ, इसलिए में थोड़ी सी नटखट और मेरी लम्बाई

5.3 इंच है, मेरे फिगर का आकार 34-30-34 है और में अभी 12th क्लास में हूँ और में अपनी क्लास में सबसे सुंदर लड़की हूँ, लेकिन थोड़ी सी मोटी और अब थोड़ा सा में अपने भाई के बारे में भी बता देती हूँ, वो कॉलेज में पढ़ता है और उसका शरीर भी

दिखने में अच्छा है। दोस्तों अब में अपनी आज की कहानी पर आती हूँ। दोस्तों मेरे स्कूल के पास ही एक कॉलेज था, जिस कारण लड़के हमेशा हमारे आस पास ही मंडराते रहते थे और धीरे धीरे मेरी सभी दोस्तों के बॉयफ्रेंड बन गये, वैसे

में भी उन लड़को की नजरो में थी और बहुत सारे लड़के मुझे भी लाईन मारते थे। शुरू शुरू में तो मैंने उनमें से किसी को भी भाव नहीं दिया, लेकिन धीरे धीरे मेरी सभी दोस्तों के जब बॉयफ्रेंड बन गये तो मेरा भी मन अब डोलने लगा

था, वो सभी लड़कियाँ लंच टाईम में अपने बॉयफ्रेंड से बातें किया करती थी तो उन्हें देखकर मेरा भी बहुत मन करता था कि मेरा भी कोई बॉयफ्रेंड हो। फिर एक दिन मैंने सोचा कि में भी किसी को हाँ बोल ही दूँ, तो अब में उन सब लड़को

पर अच्छे से नज़र रखने लगी और वो मेरे आस पास मंडराते रहते थे, जिनमें कुछ मेरी क्लास के लड़के भी थे और कॉलेज से भी बहुत लड़के आते थे और सभी की तरह मेरे भी मन में था कि मेरा बॉयफ्रेंड सबसे स्मार्ट और एकदम मस्त हो, इसलिए

मैंने स्कूल के किसी लड़के को हाँ बोलने की बजाए कॉलेज के एक लड़के को हाँ करने की बात सोची, जो रोज सुबह मेरे घर से स्कूल तक मेरा पीछा करता था। दोस्तों उसका नाम रिंकू था और वो मेरी एक सहेली के बॉयफ्रेंड का दोस्त था और

उनसे मुझे मेरी सहेली के जरिए ही अपने मन की बात के बारे में कहा था और फिर मैंने भी अपनी सहेली के जरिए ही उससे हाँ कही और उसको हाँ करते समय दोस्तों में बहुत ही रोमांचित महसूस कर रही थी। दोस्तों उस समय मेरे पास फोन

नहीं था, इसलिए लंच टाईम में मेरी सहेली ने ही उससे मेरी बात करवाई, पहली बार किसी लड़के से बात करते समय मुझे बहुत डर भी लग रहा था और मज़ा भी बहुत आ रहा था और जब पहली बार मेरी उससे बात हुई तो हम ज्यादा कुछ बात नहीं कर पाए,

जैसे कि आप कैसे हो, घर में कौन कौन है और उसके बाद मैंने फोन अपनी सहेली को दे दिया, क्योंकि मुझे उससे बात करने में बहुत शरम महसूस हो रही थी। फिर उसके अगले दिन जब में स्कूल जा रही थी, तो रिंकू ने अपनी बाईक को ठीक मेरे

सामने आकर रोक दिया। उसे देखकर में मुस्कुराई और फिर चुपचाप उसके पीछे बैठ गई और वो आराम से अपनी बाईक चलाने लगा और हम बातें करने लगे और बीच बीच में वो ब्रेक भी लगा देता था, जिससे मेरे बूब्स उसकी पीठ पर छू जाते, इससे

मेरे शरीर में करंट सा लगता और में थोड़ा संभालकर बैठने की कोशिश करती, लेकिन अगली बार जब वो ब्रेक लगाता तो में फिर से उससे चिपक जाती, जब तक हम स्कूल नहीं पहुंचे, तब तक यही सब चलता रहा और स्कूल पहुंचने से पहले उसने बाईक

को एक साईड में रोक दिया और वो उतरकर अब मेरे सामने खड़ा हो गया। फिर उसने मुझे पहली बार मेरे सामने में तुमसे प्यार करता हूँ बोला। फिर मैंने भी उससे हाँ में भी तुमसे बहुत प्यार करती हूँ कहा और फिर में शरमाकर उसके पास

से भागने की कोशिश करने लगी, लेकिन उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और मुझे अपनी तरफ़ खींचा तो में सीधे उसकी बाहों में चली गई। फिर कुछ देर के लिए उसने मुझे हग कर लिया, जिसकी वजह से मेरे शरीर में मानो करंट सा दौड़ने लगा और वो

बहुत मजबूत था। मैंने उसे छोड़ने को कहा तो उसने अपनी पकड़ थोड़ी ढीली कर दी, जिससे मुझे छूटने का मौका मिल गया और में उससे छूटकर आगे की तरफ़ भागी और फिर मुड़कर उसकी तरफ़ जीभ निकालकर उसको में चिढाने लगी। फिर मुझे देखकर

वो मुस्कुराता रह गया और में स्कूल में आ गई। अब ऐसे हमारा रोज का मिलना हो गया, में स्कूल जाते समय और आते समय उसके साथ ही आती जाती, जिसकी वजह से अब मेरी झिझक और शरम भी दूर हो गई। अब में खुद ही उससे चिपककर बैठती, जैसे

बाकी लड़कियां बैठती है, जब वो मुझे हग करता तो मुझे बहुत अच्छा लगता। अब में कभी भी उसको छोड़ने के लिए नहीं बोलती, जितनी देर उसका मन करता वो मुझे हग करता रहता और उसके बाद में स्कूल में आ जाती। दोस्तों इससे आगे ना कभी

वो गया और ना कभी में गई, मुझे अब रिंकू पर बहुत प्यार आने लगा था। एक दिन लंच टाईम जब में रिंकू से बात कर रही थी, तो उसने मुझसे कहा कि कल हम पार्क में मिलते है। मैंने कभी स्कूल में बंक नहीं किया था और अकेले पार्क में

मिलने में मुझे डर भी लग रहा था तो इसलिए मैंने उससे मना कर दिया, उसने बहुत मनाने की कोशिश की, लेकिन मुझे डर लग रहा था, इसलिए में नहीं मानी। फिर लंच के बाद मेरी सहेली ने मुझे बताया कि वो और उसका बॉयफ्रेंड भी कल बंक कर

रहे है और में भी रिंकू के साथ चली जाऊं और उसके मनाने पर मैंने हाँ कर दिया, लेकिन मुझे अभी भी थोड़ा सा डर लग रहा था, स्कूल के बाद मैंने रिंकू को अपना डर बताया तो उसने मुझसे बोला कि एक बार चलकर देख लो वहां पर सब स्कूल

कॉलेज के लड़के लड़कियां होते है और सभी बहुत मजे करते है, तुम्हें किसी बात से घबराने की ज़रूर नहीं है। फिर अगले दिन में अपने स्कूल के लिए निकली तो रोहन रास्ते में ही मुझे मिल गया और में चुपचाप उसके पीछे बैठ गई। उसने

बाईक को सीधे कॉलेज के पास बने पार्क की तरफ़ घुमा दिया और में वहां पर पहुंची, तो मैंने देखा कि मेरी सहेली और उसका वो दोस्त पहले से ही वहां पर थे और हमे देखकर वो खुश हो गये। उसके बाद हम साथ साथ पार्क में गये और वहां पर

हर तरफ़ के जोड़े ही जोड़े थे। उनको देखकर मुझे थोड़ी शरम भी आ रही थी। कुछ देर तो मेरी सहेली और उसका दोस्त हमारे साथ रहे, लेकिन कुछ देर बाद वो हमसे दूर होकर बैठ गये। फिर रोहन मुझे लेकर झाड़ियो के पीछे आ गया, वहां पर पहले

से एक जोड़ा बैठा था, इसलिए हम उनसे थोड़ा सा दूर होकर बैठ गये और इधर उधर की बातें करने लगे। फिर कुछ देर बाद मेरी नज़र उस जोड़े पर चली गई तो में उनको देखती रह गई, क्योंकि वो दोनों स्मूच कर रहे थे और लड़के के हाथ लड़की के

दोनों बूब्स पर थे। अब उनको देखते ही में अपनी नज़र को इधर उधर करने की कोशिश करने लगी और रिंकू ने भी मुझे उनकी तरफ़ देखते हुए देख लिया था, वो भी मेरे पास आ गया और बातें करता मुझे इधर उधर छूने लगा। मैंने भी उसे नहीं

रोका, क्योंकि मुझे भी उसके छूने से अच्छा लग रहा था। फिर कुछ देर बाद वो बिल्कुल मेरे पास आ गया और उसने मुझे हग कर लिया। मैंने भी उसे हग कर लिया और फिर हमने स्मूच भी किया और यह मेरी पहली समूच थी और मेरे होंठो में उसके

होंठ थे और वो मेरे होंठो को चूस रहा था, में भी उसके होंठो को चूसने लगी और मेरे बूब्स उसकी छाती से चिपके हुए थे और उसने मुझे बहुत टाईट हग किया हुआ था। कुछ देर में तो उसने मेरा बहुत बुरा हाल कर दिया था और मेरे होंठो में

दर्द होने लगा था और एक दो बार उसने मेरे बूब्स पर हाथ भी रखा, लेकिन इससे ज्यादा मैंने उसको कुछ भी नहीं करने दिया, मुझे अच्छा तो बहुत लग रहा था, लेकिन डर भी लग रहा था, स्कूल की छुट्टी के समय हम घर के लिए निकल गए, जिससे

किसी को भी हमारे ऊपर शक ना हो और आज के बाद तो में रिंकू से बहुत खुल गई और में हर समय उसके ख्यालों में खोई रहती, पढ़ाई की तो मुझे कोई फ़िक्र नहीं थी, बस पूरा दिन रिंकू के ख्यालो में खोई रहती। अब तो हम सप्ताह में दो या तीन

दिन पार्क में रहते, में रिंकू से बहुत खुल गई थी। जिस दिन वो मुझे पार्क में बुलाता तो उस दिन में जानबूझ कर ब्रा पहनकर नहीं जाती, जिसकी वजह से रिंकू आराम से मेरे बूब्स को देख सके और दबा सके, वो मेरे बूब्स को मुहं में

लेकर चूसता और मुझे बहुत मज़ा आता। एक बार रिंकू और में पार्क में थे, रिंकू मेरे ऊपर लेटकर मेरे बूब्स को चूस रहा था और एक हाथ से दबा रहा था और में मज़े में डूबी हुई थी और मुझे पता ही नहीं चला कि कब उसने मेरी सलवार का

नाड़ा खोल दिया और अपना एक हाथ मेरी पेंटी के अंदर डाल दिया, वैसे तो में कभी उसे ऐसा नहीं करने देती थी, लेकिन आज में मज़े मज़े में उसे रोक ही नहीं पाई और वो मेरी चूत से खेलने लगा। दोस्तों पहली बार मेरी चूत पर किसी मर्द

का हाथ लगा था तो में बहुत गरम हो गई और उस वजह से मेरी चूत पानी छोड़ने लगी, मुझे मेरी नस नस में करंट सा दौड़ता हुआ महसूस हो रहा था, ऐसा मज़ा मुझे आज तक नहीं मिला था। अब उसने मेरी चूत में उंगली डाल दी और फिर आगे पीछे करने

लगा। फिर कुछ देर बाद मुझे ऐसा लगा कि जैसे मेरे शरीर का पूरा खून मेरी चूत के आस पास आ गया है और मेरा एकदम से प्रेशर बन गया। मैंने रिंकू का हाथ पकड़कर उसको रोकने की कोशिश की, लेकिन में रोक नहीं पाई और मुझे ऐसा लगा कि

में सलवार में ही सू-सू कर दूँगी और एकदम से फ्री हो गई, मेरे मुहं से आआहह की आवाज़ निकली और में एकदम निढाल सी होकर लेट गई। मुझे देखकर रिंकू ने पूछा क्या पहली बार था? तो मैंने कहा कि हाँ पहली बार था। फिर उसने मुझसे कहा

कि अब तुम्हारी बारी है और उसने अपनी पेंट की चैन को खोलकर अपना लंड बाहर निकाल लिया, इससे पहले मैंने कभी लंड नहीं देखा था और में मन ही मन सोच रही थी, क्या बच्चों की नूनी इतनी बड़ी हो जाती है? मेरे देखते ही देखते रिंकू

ने अपना हाथ अपने लंड पर साफ किया, जो मेरी चूत के पानी से गीला हो गया था। में तो एक टक होकर लंड को देख रही थी, रिंकू ने अपने हाथ से मेरा हाथ पकड़ा और लंड पर रख दिया और मैंने उसका लंड पकड़ लिया। फिर उसने ऐसे ही अपने लंड को

ऊपर नीचे करना शुरू कर दिया। में उसे देख रही थी और मेरे हाथ में उसका लंड था। तभी उसने मुझसे कहा कि अब तुम करती रहो, जब तक में फ्री नहीं हो जाता और फिर में उसके सामने बैठकर उसके लंड को आगे पीछे करने लगी और वो मेरे बूब्स

के साथ खेलने लगा। करीब दस मिनट के बाद मेरा हाथ थकने लगा, लेकिन वो फ्री होने का नाम नहीं ले रहा था। मैंने उससे कहा कि क्या है तुम तो फ्री हो ही नहीं रहे? तो उसने मुझसे कहा कि जान एक बार मुहं में ले लो। अब मैंने उससे

पूछा कि तुम यह क्या बोल रहे हो, अगर तुम फिर से ऐसे बोले तो में हाथ में भी नहीं पकडूँगी। तब उसने मुझसे कहा कि फिर तुम चूत में डालने दो, में थोड़ी देर में ही फ्री हो जाऊंगा। फिर मैंने कहा कि ना में ऐसे ही करती रहूंगी,

तुम फालतू की मांग ना रखो, वरना में यह भी नहीं करूँगी तो वो बोला अच्छा रहने दो बस पांच मिनट और फिर वो मेरे बूब्स को चूसने लगा और में उसके लंड को हिलाती रही और करीब दस मिनट के बाद उसके लंड ने एक पिचकारी छोड़ी, जो सीधा

मेरे पेट गिरी में उसके लंड को छोड़ने लगी तो उसने मेरे हाथ को अपने हाथ से पकड़ लिया और लंड को तेज़ तेज़ हिलाने लगा। फिर मैंने देखा कि उसके लंड से बहुत सारा सफेद चिकना पदार्थ निकलकर उसके और मेरे हाथ पर आ गया और वो भी

थककर बैठ गया। फिर मैंने मेरे रुमाल से उसका माल साफ किया और हम घर की तरफ़ चल दिए। अब तो हम जब भी पार्क में जाते हमारा यही काम होता और वो अपने लंड को मेरी चूत में डालने की बहुत ज़िद करता, लेकिन में उसे अंदर नहीं डालने

देती थी, लेकिन वो हाथ से ही सहलाकर मुझे शांत किया करता, वो हमेशा मुझे हाथ से करने के नुकसान बताता, वो बताता कि इससे आदमी सेक्स के काबिल नहीं रहता और उसका लंड खड़ा होना बंद हो जाता है, इसलिए लड़को को ऐसा नहीं करना

चाहिए और हमेशा चूत में लंड को डालना चाहिए। फिर मैंने उससे वादा किया कि में गर्मियो की छुट्टियों के बाद उसे सब कुछ करने दूँगी और उसके साथ ही रहकर मैंने अच्छे से जाना कि लड़को की नज़रे हमेशा हमारे बूब्स को और गांड

को घूरती रहती है, पहले में इस तरफ़ कभी ध्यान नहीं देती थी, लेकिन अब में स्कूल में भी ध्यान देती, जब भी कोई लड़का मुझसे बात करता है तो ज्यादातर समय उसकी नज़र मेरे बूब्स पर होती थी और अंदर ही अंदर यह सब मुझे अच्छा लगता

था, इसलिए में टाईट शर्ट और स्कर्ट पहनकर स्कूल आती और मैंने सभी डिजाईन की भी फिटिंग ब्रा और वैसे ही कपड़े पहने, जिससे मेरे बूब्स और गांड एकदम मस्त दिखे, जैसा कॉलेज की लड़कियां करती है और इससे मेरी सुन्दरता पर चार

चाँद लग गये, लेकिन इस सबके बीच मैंने घर पर भी एक बात पर ध्यान दिया कि मेरा भाई भी जब में उसकी तरफ़ नहीं देख रही होती तो वो मेरे बूब्स को और मेरी गांड को घूरता। दोस्तों में आपको बताना भूल गई कि मेरे घर में नीचे मम्मी,

पापा का बेडरूम है और गेस्ट रूम है, मेरा और भाई का रूम ऊपर है और हमारे दोनों के रूम में एक बेड लगा हुआ है और भाई के रूम में एक कंप्यूटर भी है। दोस्तों में जब भी अपने भाई के रूम में जाती तो कंप्यूटर के पास जमीन पर कुछ

पीले रंग के दाग होते, जो मुझे हमेशा मिलते थे, लेकिन मैंने हमेशा ही उनकी तरफ इतना ध्यान नहीं दिया। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है। अब स्कूल में गर्मियों की छुट्टियाँ होने वाली थी और स्कूल का आखरी

दिन था और उस पूरा दिन में रिंकू की बाहों में रही। मेरा उससे अलग होने का मन बिल्कुल भी नहीं कर रहा था, क्योंकि मुझे पता था कि अब पूरे महीने हमारी बात नहीं हो पाएगी और ना ही हम मिल पाएँगे, इसलिए मेरी तो आँखो से आँसू आने

लगे और उसने बड़ी मुश्किल से मुझे चुप करवाया और घर आते वक़्त भी में उससे चिपककर बैठी रही। उसके बाद में घर पर आ गई। करीब 2-3 दिन तो मेरा मन ही नहीं लगा, लेकिन फिर टी.वी. और भाई के साथ बातें करने के बाद मूड ठीक हो गया। घर पर

मम्मी पापा के ऑफिस चले जाने के बाद में और भाई ही बचते, इसलिए में पूरा दिन अपने भाई के आसपास ही रहती और टी..वी. देखती या फिर सोती। दोस्तों दिन में ज्यादा सोने की वजह से कई बार रात को नींद नहीं आती। फिर एक दिन ऐसे ही

मुझे रात को नींद नहीं आ रही थी तो मैंने सोचा भाई को देखती हूँ, वो क्या कर रहा है, अगर जगा हुआ है तो कुछ देर में उसके साथ बैठ जाउंगी। फिर मैंने दरवाजा खोलकर भाई के रूम की तरफ़ देखा तो उसके रूम की लाईट जली हुई थी, इसलिए

मैंने जाकर उसके रूम का दरवाजा बजा दिया। फिर भाई ने करीब पांच मिनट के बाद दरवाजा खोला तो उसके रूम से अलग सी बदबू आ रही थी और यह बदबू में पहचानती थी, फ्री होने के बाद माल से ऐसी बदबू आती थी। अब भाई ने मुझसे पूछा कि क्या

हुआ तो मैंने उससे कहा कि कुछ नहीं मुझे नींद आ रही थी, इसलिए मैंने सोचा कि में आपके रूम में चलती हूँ। फिर भाई ने कहा कि हाँ तुम अंदर आ जाओ और में अंदर आई तो सबसे पहले मेरी नज़र कंप्यूटर टेबल के पास गई, कुर्सी के नीचे

कुछ गीला सा लग रहा था, जैसे अभी अभी सफाई की हो और में तुरंत समझ गई कि भाई अभी कुछ देर पहले ही फ्री हुआ है। फिर में भाई के साथ उसके बेड पर बैठ गई और इधर उधर की बातें करने लगी। उस समय भाई बनियान और बॉक्सर में था और आज बहुत

दिनों के बाद मैंने भाई को इतने ध्यान से देखा और पाया कि वो पहले से बहुत कमज़ोर हो गया है। अब कमज़ोर का ख्याल आते ही मुझे रिंकू की बात याद आ गई कि हाथ से यह सब करने से आदमी कमज़ोर हो जाता है और उसमें सेक्स करने की ताकत

भी नहीं रहती और रिंकू ने मुझे यह भी बताया था कि हर लड़के को लड़की की ज़रूरत होती है, जिसकी वजह से वो यह काम हाथ से करने से बच सके और उस समय मुझे ऐसा लग रहा था कि रिंकू ने अपने फायदे के लिए यह सब बोला होगा, लेकिन जब बात

भाई पर आई तो मुझे उसकी फिकर होने लगी और बातों ही बातों में मैंने भाई से पूछा कि क्या आपकी कोई गर्लफ्रेंड है? तो उसने कहा कि नहीं है और में सोचने लगी कि भाई की सेटिंग अपनी किसी सहेली से करवा दूँ, लेकिन अभी कैसे करूं?

अभी तो स्कूल भी बंद है और यह सब करने में थोड़ा समय भी लगेगा और तब तक भाई को कुछ हो ना जाए? पूरी रात में बस यही बात सोचती रही कि कैसे में भाई को समझाऊँ और उसे मना करूं? लेकिन मुझे कुछ समझ नहीं आया। फिर मैंने सोचा कि अब से

में भाई को अकेले नहीं रहने दूँगी, वो मेरे सामने रहेगा तो यह सब नहीं कर पाएगा, दिन में तो कैसे ना कैसे करके में उसके साथ रही, लेकिन रात को वो अपने रूम का दरवाजा बंद करके लेट गया और में भी अपने रूम में लेटी हुई सोच रही

थी कि भाई क्या कर रहा होगा? ख्याल आते ही मैंने उसे रोकने की सोचा और सीधे जाकर उसके रूम का दरवाजा बजा दिया और उसने दो मिनट बाद ही दरवाजा खोल दिया, इस वक़्त उसका कंप्यूटर चालू था। फिर मैंने कहा कि भाई में अकेली बोर हो

रही हूँ, क्या में आपके रूम में कुछ देर बैठ जाऊं प्लीज़? तो उसने कहा कि नहीं तुम अपने रूम में जाओ और अब मुझे सोने दो। फिर मैंने कहा कि प्लीज़ मुझे नींद नहीं आ रही है और मेरा चेहरा देखकर उसने मुझे अंदर आने दिया। फिर

में उसके बेड पर बैठ गई और पूछने लगी कि कंप्यूटर में कौन कौन सी फिल्म है? तब उसने मुझसे कहा कि फिल्म नहीं है और मुझे अब नींद आ रही है तुम जाओ। फिर मैंने कहा कि में नहीं जाउंगी, में भी आपके साथ यहीं पर सो जाउंगी और फिर

में उसके बेड पर लेट गई। मुझे ऐसा लगा कि वो सो जाएगा और में उठकर चली जाउंगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ भाई जागता रहा और मुझे ही नींद आने लगी, जब मुझे नींद आने लगी तो उसने मुझसे कहा कि अब अपने रूम में जा। अब में खड़ी हुई और

दरवाजा बंद करके मैंने लाईट को बंद कर दिया और फिर से में बेड पर लेट गई। उस छोटे बेड पर हम दोनों थे। हम कुछ देर तो ऐसे ही लेटे रहे और में उसकी तरफ़ पीठ करके लेट गई। थोड़ी देर बाद भाई की आवाज़ आई और वो बोला क्यों पूजा सो

गई? में कुछ नहीं बोली बस चुपचाप लेटी रही, भाई ने दोबारा पूछा क्या सो गई पूजा? इस बार मैंने कहा कि नहीं, लेकिन मुझे आपसे एक बात करनी है। फिर भाई ने मुझे पीछे से हग कर लिया और पूछा कि क्या हुआ? मैंने कहा कि कुछ नहीं बस आप

मुझे प्यार नहीं करते, तो भाई ने मुझसे कहा कि करता तो हूँ। मैंने कहा तो फिर मुझे अपने साथ क्यों नहीं सोने दे रहे हो? तो भाई ने कहा कि मैंने तुझे कब रोका? अरे में तुझे नहीं रोक रहा, तू सो जा। फिर मैंने कहा कि धन्यवाद और

अब में भाई के हाथ पर बड़े प्यार से हाथ रखकर बिल्कुल उससे चिपककर लेट गई और भाई ने मुझे पीछे से हग किया हुआ था और अंजाने में मैंने अपनी गांड को एकदम भाई के लंड से चिपका ली, जिसका एहसास मुझे दस मिनट के बाद ही हो गया, जब

मुझे उसके लंड में हलचल सी महसूस होने लगी। थोड़ी देर बाद उसका लंड पूरी तरह से खड़ा हो गया और मेरी गांड के अंदर तक चुभने लगा, भाई ने पहले तो शायद कंट्रोल करने की बहुत कोशिश की, लेकिन उसकी कोशिश को मेरी सेक्सी गांड ने

फेल कर दिया, क्योंकि अब में भी उस अहसास से नहीं बच सकी और गरम हो गई। भाई ने पहली हरकत की उसने अपने एक पैर को मेरे पैर के पीछे किया और धीरे से मेरे पैर को आगे की तरफ़ कर दिया। अब मैंने खुद ही अपने ऊपर वाले पैर को आगे की

तरफ़ सरका लिया और थोड़ा सा में पेट के बल हो गई, जिससे भाई ने अपना बहुत वजन मेरे ऊपर कर दिया और अपने लंड को बिल्कुल मेरी गांड पर टिका दिया। इस वक़्त शायद उसने बॉक्सर के अंदर कुछ नहीं पहना हुआ था, इसलिए उसके लंड की

चुभन बहुत ज्यादा थी और यह सब मुझे अच्छा सा लग रहा था, भाई धीरे से हिलाने लगा और में उसी तरह से लेटी रही और बहुत देर बाद भाई फ्री हो गया। उसने अपना पूरा माल मेरी गांड पर ही छोड़ दिया और उसके माल से मेरी पेंटी गीली हो गई

और भाई मेरे ऊपर ऐसे ही लेटा रहा और उस वक़्त मैंने भी उठना उचित नहीं समझा, इसलिए में लेटी रही और मुझे कब नींद आ गई पता ही नहीं चला। फिर सुबह करीब 4-5 बजे मेरी आँख खुली, जब मुझे सू-सू लगा तो उस वक़्त में उठकर अपने रूम में आ

गई और सो गई। में दिन में यह बात सोचती रही कि मैंने यह सब ठीक किया या गलत? सुबह से मुझे पछतावा महसूस हो रहा था और में अपने भाई से नज़र नहीं मिला पा रही थी, लेकिन शाम होने तक मुझे ख्याल आने लगा कि में यह सब अपने भाई को

बचाने के लिए ही तो कर रही हूँ और अगर वो भविष्य में सेक्स नहीं कर पाया तो उसकी शादी कैसे होगी और तभी मैंने ठान लिया कि भाई को कैसे भी करके बचना है और इस सबके बीच कहीं ना कहीं मुझे भी रात को मज़ा आया और में भी चाहती थी

कि ऐसा फिर से हो और रात को खाना खाने के बाद में मेरे रूम में गई और मैंने अपनी ब्रा पेंटी को उतार दिया। उसके बाद में एक बॉक्सर और टॉप पहनकर भाई के रूम में आ गई और मेरे इस रूप में भाई मुझे चकित होकर देखता ही रह गया और

फिर मुस्कुराता हुआ बोला क्यों आज दिन में क्या हो गया था? तो में मुस्कुराते हुए बोली कुछ नहीं मुझे नींद आ रही है, सोने दो और चुपचाप बेड पर जाकर लेट गई। भाई ने दरवाजा बंद किया और मेरे पीछे आकर लेट गया तो मैंने कहा कि

लाईट को बंद कर दो। फिर भाई ने लाईट को बंद कर दिया और मेरे पीछे आकर मुझसे सटकर लेट गया और अब उसने अपना लंड सीधे मेरी गांड पर टिका दिया और फिर धीरे से अपने हाथ मेरे बूब्स पर ले आया और उनको दबाने लगा। मुझे बहुत मज़ा आ

रहा था और इतना मज़ा कभी मुझे रिंकू के साथ भी नहीं आया था, जितना भाई के साथ आ रहा था। अब भाई ने धीरे से मुझे अपनी तरफ़ घुमा लिया और मेरे होंठो पर किस करने लगा और में भी उसका साथ देने लगी, उसने अपने हाथ मेरे टॉप के अंदर

डाल लिए और मेरे बूब्स को दबाने लगा और उस समय में हर पल का मज़ा ले रही थी। भाई मेरे ऊपर आ गया और मुझे पता ही नहीं चला कि कब मैंने अपने दोनों पैरों को खोलकर उसे अपने पैरों के बीच में ले लिया? मुझे इसका एहसास तब हुआ जब

भाई का लंड सीधे मेरी चूत पर चुभने लगा, उसके लंड की चुभन बहुत मस्त थी। में तो बस उसमें खो गई और अब मेरी चूत पानी छोड़ने लगी और मुझे ऐसा लग रहा था, जैसे मेरी चूत के अंदर हलचल हो रही है और में अंदर कुछ डालकर इस हलचल को रोक

लूँ, उस समय मेरी साँसे बहुत तेज चल रही थी। दोस्तों यही हाल भाई का भी था, उसने मेरा टॉप निकाल दिया और मैंने टॉप को उतारने में उसकी मदद की और अब ऊपर से में बिल्कुल नंगी हो गई और भाई मेरे बूब्स पर जैसे टूट पड़ा, वो कभी एक

को चूसता तो कभी दूसरे को ज़ोर लगाकर दबा देता, जिसकी वजह से मेरे बूब्स में हल्का हल्का सा दर्द होने लगा, क्योंकि वो बहुत ज़ोर से चूस और निचोड़ रहा था और अब भाई ने एक हाथ से मेरा बॉक्सर नीचे सरकाना शुरू कर दिया और में भी

इतनी ज्यादा गर्म हो गई थी कि उसे रोक नहीं सकती थी, इसलिए में भी हर काम में उसका साथ दे रही थी, मुझे पता ही नहीं चला कब भाई ने अपना बॉक्सर उतार लिया। अब हम दोनों बिल्कुल नंगे थे और अब भाई मेरे दोनों पैरों के बीच में आ

गया और उसने अपना लंड मेरी चूत के मुहं पर लगाया और गरम गरम लंड का एहसास ही अलग था, उस पल को में कभी भूल नहीं सकती। फिर भाई ने लंड बिल्कुल मेरी चूत पर टिका दिया और मेरे दोनों पैरों को पकड़कर मेरे पेट से चिपकाता हुआ वो

मेरे ऊपर लेट गया और उसने लंड को मेरी चूत के अंदर सरका दिया। दोस्तों में उस असहनीय दर्द से बिखल उठी, में भूल गई थी कि भाई अब एक 25 साल का मर्द बन चुका है और में अभी कच्ची कली हूँ, जिसने अभी जवानी में अपना पहला कदम रखा है

और जब एक मर्द कच्ची कली पर चढ़ेगा तो ऐसा ही होगा। अब में उस दर्द को सहन नहीं कर पा रही थी और भाई से छोड़ने का आग्रह करने लगी, लेकिन वो इस वक़्त कहाँ मानने वाला था? इसलिए मैंने अपना दम लगाकर खुद को उससे छुड़ाने की

कोशिश की, लेकिन बेकार गया, क्योंकि उसमें बहुत ताक़त थी। में तो उसके नीचे दब सी गई, उसका लंड धीरे धीरे अंदर ही जा रहा था और भाई ने अपने होंठ मेरे होंठ पर रख दिए और धीरे धीरे करके उसने अपना पूरा लंड अंदर डाल दिया, मेरी

तो जैसे जान ही निकल गई। अगर मुझे पता होता कि चुदने में इतना दर्द झेलना पड़ता है तो में कभी भी यह रिस्क नहीं लेती, लेकिन अब तो जो होना था हो गया। अब भाई ने अपने लंड को धीरे धीरे मेरी चूत में अंदर बाहर करना शुरू कर दिया,

जिससे मुझे कुछ राहत मिली और उसका लंड धीरे से बाहर जाता और फिर आराम से अंदर आ जाता और धीरे धीरे करके मुझे भी मज़ा आने लगा और मेरा पूरा दर्द गायब हो गया। अब भाई ने भी अपने धक्को की स्पीड को बढ़ा दिया और अब वो ज़ोर ज़ोर

से मुझे चोदने लगा और उसकी स्पीड बढ़ते ही में फ्री हो गई और में उससे हटने का इशारा करने लगी, लेकिन वो तो अपनी धुन में लगा हुआ था, जैसे पता नहीं कौन सा खजाना उसके हाथ लग गया हो? उस समय मेरी तो उसे बिल्कुल भी फिक्र नहीं

थी। अब उसके धक्को से मुझे फिर से मज़ा आने लगा था और अब में भी उसका साथ देने लगी, वो लगभग 15 मिनट तक मुझे पूरे जोश के साथ चोदता रहा और इस बीच में पांच बार झड़ गई थी, अब तो मुझसे झेलना भी मुश्किल हो गया था। तभी उसने धक्को की

स्पीड को तेज कर दिया और उसके हर एक धक्के से में अपने आप ही ऊपर की और सरक जाती। फिर उसने मुझे पूरे जोश के साथ एकदम टाईट पकड़ लिया और एक गरम गरम पिचकारी मेरे अंदर छूटी, जिससे में बिल्कुल निढाल हो गई और उसी वक़्त में

फिर से झड़ गई, मेरे मुहं से अपने आप सिसकियाँ निकलने लगी, आह्ह्हहह उूउऊँ आईईईईईई और फिर सब शांत हो गया। अब हम ऐसे ही लेटे रहे। फिर भाई ने एक करवट ली और खुद पीठ के बल लेट गया। मैंने भी उसकी छाती पर अपना सर रख लिया और एक

पैर फैलाकर भाई के ऊपर रख दिया और में आँखे बंद करके लेट गई और मुझे पता ही नहीं चला कि कब नींद आ गई। सुबह मेरी आँख खुली तो जब भाई मेरे बूब्स दबा रहा था। अब मुझे जागता हुआ देख उसने मेरे होंठो को चूसना शुरू कर दिए और में

भी उसके साथ उसके होंठो को चूसने लगी, लेकिन जैसे ही मैंने अपने पैर खोले तो मुझे एक तीखा सा दर्द हुआ। मैंने एकदम से भाई को हटाया और बैठकर अपनी चूत को देखने लगी, उस वक़्त मेरी चूत में थोड़ी सूजन थी और मेरे पैरों के

जोड़ो में दर्द भी हो रहा था। फिर भाई ने पूछा कि क्या हुआ? तो मैंने उसे बताया कि दर्द हो रहा है तो उसने कहा कि पहली बार करने पर थोड़ा सा दर्द जरुर होता है, में दर्द की दवाई ला दूँगा सब ठीक हो जाएगा और फिर में बेड से उठकर

वॉशरूम की तरफ़ जाने लगी और चलते समय भी मेरे पैरों में बहुत दर्द हो रहा था, इसलिए मुझे पैर खोलकर चलना पढ़ रहा था और सू-सू करते समय भी जलन सी हो रही थी, जब में बाहर निकली तो भाई नीचे जा चुका था और में भी नीचे की तरफ़ चल दी।

मम्मी, पापा और भाई तीनों टेबल पर बैठे थे और मेरी चाल देखकर मम्मी ने मुझसे पूछा कि मेरे बच्चे को क्या हुआ और मेरे पास आकर फुसफुसाई। मैंने हाँ में अपना सर हिला दिया तो मम्मी ने कहा कि ड्रॉयर में नॅपकिन रखे है, उसे काम

में ले लेना। फिर मैंने कहा कि मेरे पास है, लेकिन पेट में बहुत दर्द हो रहा है, तो मम्मी मुझसे बोली कि कोई बात नहीं खाना खाकर आराम कर ले और फिर मुझे हग करके ही कुर्सी तक ले गई और कुर्सी पर बैठा दिया। फिर पापा मुझसे

बोले कि क्या हुआ बेटा तो मम्मी ने इशारे से उनको समझा दिया। फिर भाई ने कहा कि कुछ नहीं हुआ ऐसे ही ड्रामे कर रही है ड्रामेबाज़, तो पापा बोली उसकी तबियत खराब है उसे तो तंग ना कर। फिर मैंने जीभ निकालकर भाई को चिड़ाया और

बोली कि सुन लिया ना मुझे तंग नहीं करना और उसके बाद मम्मी पापा अपने ऑफिस के लिए निकल गये। फिर भाई ने बर्तन साफ किए और फिर हम दोनों सोफे पर बैठकर टी.वी. देखने लगे। अब उसने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और में भी उसके ऊपर ही

लेट गई और उसकी आँखो में देखने लगी, जिनमें मुझे सिर्फ़ प्यार ही प्यार दिख रहा था, भाई मेरे होंठो को चूसने लगा और अब उसके हाथ मेरी गांड पर आ गये और दबाने लगे। फिर में उसके हाथ को हटाते हुए बोली कि भैया आज नहीं प्लीज़

मुझे सच दर्द हो रहा है तो उसने मेरी बात मान ली और अपने हाथ से मेरी कमर को सहलाता रहा और में ना जाने कब उसके ऊपर ही सो गई, मुझे पता ही नहीं चला और शाम को मेरी आँख खुली तो में सोफे पर अकेली लेटी हुई थी, में उठकर फ्रेश हुई

और उस वक़्त मेरा दर्द करीब खत्म सा हो चुका था, लेकिन रात को भाई के साथ सोते हुए मैंने उसे कुछ नहीं करने दिया ना ही उसने मुझे कुछ किया, हम बस हग किए बातें करते रहे। अगली सुबह में एकदम ठीक थी, मेरे दर्द का नामोनिशान तक

नहीं था और फ्रेश होकर मैंने मम्मी के काम में थोड़ा हाथ बंटाया और उनके जाने के बाद में बर्तन साफ कर ही रही थी कि भाई पीछे से आ गया और मुझे हग कर लिया और उसका खड़ा लंड मेरी गांड पर चुभने लगा। मैंने पूछा कि क्या बात है आज

सुबह सुबह मूड में हो? तो भाई ने कहा कि क्या करूं जानू तुम हो ही इतनी मस्त कि देखते ही में मूड में आ जाता हूँ और फिर भाई मुझे गोद में उठाकर सोफे पर ले गया और मेरा लोवर और टॉप उतार फेंका। फिर ब्रा और पेंटी उतारकर मुझे

पूरी नंगी कर दिया और मुझ पर टूट पड़ा और में भी उसका साथ देने लगी और फिर उसने अपना लंड मेरी चूत के अंदर डाल दिया, मुझे दर्द तो हुआ, लेकिन उसके बाद जो मज़ा आया, वो में किसी भी शब्दों में आप लोगों को बता नहीं सकती। उस दिन

भाई ने पूरे दिन मज़े से करीब 6 बार चोदा। मेरी तो बहुत बुरी हालत हो गई, में एक बार की चुदाई में 2-3 बार झड़ गई ।।
दोस्तों आज की एक और नई सेक्स कहानी पड़ने के लिये यहाँ क्लिक करें।
Notice For Our Readers

दोस्तो डाउनलोड क्र्रे हमारा अफीशियल आंड्राय्ड अप (App) ओर अनद लीजिए सेक्स वासना कहानियो का . हमारी अप(App) क्म डेटा खाती है और जल्दी लोड होती है 2जी नेट मे वी ..अप(App) को आप अपने फोन मे ओपन रख सकते है

अप(App) का डिज़ाइन आपकी प्राइवसी देखते हुए ब्नाई गयइ है.. अप(App) का अपना खुद का पासवर्ड लॉक है जिसे आप अपने हिसाब से सेट कर सकते ह .जिसे दूसरा कोई ओर अप(App) न्ही ओपन क्र सकता है और ह्र्मारी अप(App) का नाम sxv शो होगा आफ्टर इनस्टॉल आपकी गॅलरी मे .

तो डाउनलोड करे Aur अपना पासवर्ड सेट क्रे aur एंजाय क्रे हॉट सेक्स कहानियो का ...
डाउनलोड करने क लिए यहा क्लिक क्रे --->> Download Now Sexvasna App

हमारी अप कोई व किसी भी तारह के नोटिफिकेशन आपके स्क्रीन पर सेंड न्ही करती .तो बिना सोचे डाउनलोड kre और अपने दोस्तो मे भी शायर करे

   Please For Vote This Story
17
2